Breaking News

उत्तराखंड के मदरसों में भी होगा जय श्रीराम, मुफ्ती शमून कासमी बोले श्री राम हमारे पूर्वज हैं

Uttrakhand madrasa news:- 22 जनवरी 2024 को अयोध्या के राम मंदिर में होने वाली प्राण प्रतिष्ठा के लिए पूरा देश उत्साहित है। देश भर में इस ऐतिहासिक दिन की तैयारी जोर शोर से चल रही है। देश के कोने कोने में, मंदिरों में स्वच्छता अभियान और भगवान राम के भजन,कीर्तन और सुंदरकांड पाठ के आयोजन से माहौल राममय हो चुका है। राम के आगमन और स्वागत को लेकर देवभूमि उत्तराखंड में भी खुशी की लहर बह रही है। एक तरफ जहां मंदिरों में साज सजावट और राम नाम के जयकारे सुनाई दे रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ राम आगमन को लेकर देवभूमि के मदरसे भी अपनी खुशीं का इजहार कर रहे हैं।

आपको बताते चलें कि उत्तराखंड के मदरसों में राम आगमन की खुशी में स्वच्छता अभियान चलाने के साथ ही मदरसों में मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम की जीवनी भी पढ़ाई जाएगी। उत्तराखंड मदरसा बोर्ड अध्यक्ष मुफ्ती शमून कासमी ने जानकारी देते हुए कहा कि मदरसों में स्वच्छता अभियान चलाने के साथ ही मदरसों में मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम के बारे में पढ़ाया जाएगा।

मुफ्ती शमून कासमी ने कहा कि मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम और उनके आदर्शों को साझा किया जाना चाहिए। एक राजा के बेटे होने के बाद भी उन्होंने श्रेष्ठ आदर्शों का उदाहरण देते हुए राजपाठ को छोड़, वन गमन का रास्ता चुना। उनका जीवन पूरे देश के सामने आना चाहिए। उन्होंने बताया कि मदरसों के लोगों को भी वे इससे परिचित करा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम हमारे पूर्वज और अग्रणी हैं। हमारे हिंदू भाइयों के आराध्य हैं। उनके पूजनीय हैं, तो हमारे भी बड़े हैं। उन्होंने देश के मुसलमानों से अपील की, कि जितना हमारे हिंदू भाइयों को हर्ष है, उतना हमें भी हर्ष होना चाहिए। इस समय इस बात का परिचय देना चाहिए। यही सीख हमें मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम जी से मिलती है।

उन्होंने बताया कि वे मदरसों में स्वच्छता अभियान और मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम की जीवनी को बताने के इस अभियान को बहुत तेजी के साथ आगे बढ़ा रहे हैं। बता दें कि इससे पहले उत्तराखंड मदरसा बोर्ड अध्यक्ष, मुफ्ती शमून कासमी मदरसों में वेद और संस्कृत को भी पढ़ाने की बात कर चुके हैं, जिसको लेकर काफी बवाल भी हुआ था।

To Top
Ad