Nainital-Haldwani News

कुमाऊं में 24 घंटे खुले रहेंगे DIG कार्यालय के दरवाजे, टोल फ्री नंबर भी किया जारी



हल्द्वानी: प्रदेश में पुलिस अपनी पहचान को मित्र पुलिस के तौर पर स्थापित करने की पुरजोर कोशिश कर रही है। पीड़ितों की शिकायतों के जल्द से जल्द निस्तारण के लिए अब डीआइजी कुमाऊं ने एक शानदार पहल की है। डीआइजी नीलेश आनंद भरणे (DIG Kumaun Nilesh Anand Bharne) ने कुमाऊं के सभी एसएसपी कार्यालयों में शिकायत प्रकोष्ठ खोलने के निर्देश दिए हैं। अब पीड़ित अफसरों के ऑफिसों से मायूस होकर नहीं लौटेंगे।

Ad

दरअसल कई बार ऐसा होता है कि पीड़ित अपनी परेशानी या शिकायत लेकर एसएसपी, एसपी सिटी के दफ्तर (SSP/SP City office) पहुंचते हैं मगर वहां उन्हें अफसर नहीं मिलते। जिस वजह से पीड़ितों को मायूस होकर वापस लौटना पड़ता है। इससे शिकायतें भी लंबित होती हैं और आमजन को भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें 👉  गर्व की बात है, देवभूमि की प्रीति धनाई ने इंजीनियरिंग कॉलेज में टॉप कर जीता गोल्ड मेडल

मगर अब ऐसा नहीं होगा। शनिवार को प्रेस वार्ता में डीआइजी डॉ. नीलेश आनंद भरणे ने जानकारी दी और बताया कि थाना, चौकियों की तर्ज पर अब अफसरों के दरबार में भी 24 घंटे जनसमस्याओं (Complaints will be recieved 24 hours) को सुना जाएगा। पीड़ितों के हितों को ध्यान में रखते हुए सभी जिलों के एसएसपी दफ्तर में शिकायत प्रकोष्ठ (special cell) खोला जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी से टिकट मिलने पर भावुक हुए सुमित हृदयेश...बोले कांग्रेस ने नहीं खलने दी मां की कमी

यहां पर डे ऑफिसर फरियादियों की समस्याओं को सुनेंगे। अगर अधिकारी खुद दफ्तर में होंगे तो वह लगे हाथ शिकायत का निपटारा करेंगे। वरना कार्यालय में मौजूद डे ऑफिसर (day officer) ही समस्याओं को सुनेंगे। बता दें कि पीड़ितों को किसी भी तरह की परेशानी ना हो, इसके लिए हेल्पलाइन नंबर 05946283601 भी जारी किया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी सफलता...नैनीताल पुलिस ने पकड़ी कॉर्बेट में सप्लाई होने वाली 60 लाख की हेरोइन व स्मैक

पीड़ित चाहें तो डीआइजी कैंप कार्यालय में भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। बता दें कि पीड़ितों के लिए कार्यालय (DIG Office open for 24 hours) के दरवाजे शनिवार से ही खोल दिए गए हैं। जानकारी के अनुसार शिकायत प्रकोष्ठ में एक अधिकारी शिकायत रिसीव करेगा और डीआइजी के दरवाजे 24 घंटे खुले रहेंगे। इसके बाद मामले को डीआइजी तक भेजा जाएगा। डीआइजी से मिलने के लिए शुक्रवार और शनिवार का दिन तय किया गया है।

To Top