Nainital-Haldwani News

नैनीताल निवासी अभिषेक साह रह चुके हैं मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन के कोच


Ad
Ad
Ad
Ad

नैनीताल: टोक्यो ओलंपिक में भारत के लिए एक और मेडल पक्का कर चुकी मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन ने नैनीताल निवासी कोच अभिषेक साह से भी ट्रेनिंग ली है। टोक्यो ओलंपिक में मुक्केबाजी में सेमीफाइनल में पहुंची भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन का मुकाबला 4 अगस्त होगा। अपने दिनों के विख्यात बॉक्सर रहे नैनीताल तल्लीताल क्षेत्र निवासी अभिषेक साह ने बताया कि वह इंटरमीडिएट के दौरान लवलीना के कोच रहे थे। उन्होंने कहा कि लवलीना बेहद शानदार खिलाड़ी हैं और इसकी झलक उनके खेल से दिखाई देती है। अपनी तेजी से वह किसी भी विरोधी को चारों खाने चित कर सकती है।

अभिषेक साह के करियर पर एक नजर

तल्लीताल क्षेत्र निवासी अभिषेक साह ने साल 1996 में अपने बॉक्सिंग करियर की शुरुआत की थी। इसके लिए वह महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज देहरादून गए थे। देहरादून स्पोर्ट्स कॉलेज में वह अपले इंटरनेशनल खिलाड़ी बने थे। साल 2000 में उन्होंने जर्मनी में भी ट्रेनिंग ली थी। इसके अलावा कोच साह इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी में भी स्वर्ण पदक हासिल कर चुके हैं। उन्होंने एलाइट नेशनल चैंपियनशिप में भी पदक जीते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी से सामान लेकर निकला पिकअप नैनीताल में गिरा, चालक मौके से फरार

बताया कि टोक्यो ओलंपिक में भारत के असम की 23 वर्षीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन के सेमीफाइनल में पहुंचने के साथ ही भारत के लिए एक और मेडल पक्का हो चुका है। साह ने दावा किया कि वह इंटरमीडिएट के दौरान लवलीना के कोच रहे थे और उन्होंने ही उसे मुक्केबाजी के टिप्स सिखाए थे।

यह भी पढ़ें 👉  भवाली- नैनीताल मोटर मार्ग दिन में खुलेगा और रात में रहेगा बंद, जरूर नोट कर लें टाइमिंग

तल्लीताल बाजार क्षेत्र निवासी अभिषेक वर्तमान में साई नेशनल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस रोहतक में बॉक्सिंग कोच हैं। अभिषेक ने अपना बॉक्सिंग करियर वर्ष 1996 में महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज देहरादून से शुरू किया। देहरादून स्पोर्ट्स कॉलेज से अभिषेक पहले अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी थे। उन्होंने जर्मनी में वर्ष 2000 में प्रशिक्षण लिया।

अभिषेक ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी के गोल्ड मेडलिस्ट रह चुके हैं। उन्होंने तीन बार एलाइट नेशनल चैंपियनशिप में भी पदक जीते हैं। वर्ष 2008 में अभिषेक ने अपने खेल से कोर ग्रुप नेशनल कैंप में भी धाक जमाई थी। खिलाड़ी के रूप में कामयाब होने के बाद वह कोचिंग के क्षेत्र में उतरे। साल 2008 में स्पोर्ट्स कोचिंग डिप्लोमा किया और फिर 2014 में साई एसटीसी गुवाहाटी में असिस्टेंट कोच के पद पर ज्वाइनिंग की। इसी दौरान उन्होंने करीब 5 साल भिषेक ने भारतीय महिला बॉक्सर लवलीना को भी कोचिंग दी थी, मौजूदा वक्त में वह साई नेशनल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस रोहतक में बॉक्सिंग कोच हैं।

Join-WhatsApp-Group
To Top