Nainital-Haldwani News

हल्द्वानी में महिलाओं ने घर में घुसकर चप्पलों से की शराब तस्कर की धुनाई


हल्द्वानी में महिलाओं ने घर में घुसकर चप्पलों से की शराब तस्कर की धुनाई

हल्द्वानी: शराब सेहत के लिए हानिकारक है। यह मालूम होने के बाद आज का समाज शराब के नशे में बर्बाद हो रहा है। शराब तस्करी के मामले एकाएक बढ़ने में लगे हुए हैं। पुलिस अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रही कि इन पर लगाम लगाई जाए मगर पुलिस को आमजन का सहयोग भी चाहिए होता है। इसी कड़ी में हल्द्वानी जीतपुर नेगी की महिलाओं द्वारा एक शराब तस्कर को घर में घुसकर पीटने का मामला सामने आया है।

Ad

जीतपुर नेगी गांव में एक तस्कर शराब बेचने के काम को अंजाम दे रहा था। मगर रविवार को क्षेत्र की महिलाओं से रहा नहीं गया तो उन्होंने कड़ा कदम उठाने की ठानी। पूर्व प्रधान व बीडीसी सदस्य मोहन सिंह नेगी के नेतृत्व में गांव की दर्जनों महिलाएं उक्त शराब तस्कर के घर गई। जहां महिलाओं ने शराब बेचने का विरोध किया।

यह भी पढ़ें 👉  गर्व की बात है, देवभूमि की प्रीति धनाई ने इंजीनियरिंग कॉलेज में टॉप कर जीता गोल्ड मेडल

तस्कर पर महिलाओं ने आरोप लगाया कि वह लंबे समय से गांव में शराब का धंधा कर रहा है। शराब के सेवन से आए दिन लोग आपस में झगड़ रहे हैं। महिलाओं के लिए नशे की हालत में घूम रहे सिरफिरे सिरदर्द बन गए हैं। शराब पीकर उनके पति भी मारपीट करते हैं। दर्जनों महिलाओं ने शराब के साथ तस्कर को रंगेहाथ पकड़ लिया और एकजुट होकर उसकी चप्पलों से पिटाई कर दी।

यह भी पढ़ें 👉  पार्टी बदली, चेहरे वही...नैनीताल में फिर आमने सामने होंगे संजीव आर्य और सरिता आर्य

जानकारी के अनुसार तस्कर के घर से दो पेटी से अधिक देसी शराब भी बरामद की गई। महिलाओं को आते देख तस्कर ने दोनों पेटी पानी की टंकी के अंदर डाल दी व देसी शराब के पव्वे छत पर फेंक दिए। मगर महिलाओं ने पकड़ लिया। बाद में टीपीनगर पुलिस को मौके की सूचना दी गई। टीपीनगर के एसआई निर्मल लटवाल अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी सफलता...नैनीताल पुलिस ने पकड़ी कॉर्बेट में सप्लाई होने वाली 60 लाख की हेरोइन व स्मैक

बता दें कि पुलिस ने टंकी से शराब की दो पेटी बरामद की। हालांकि पिटने के बाद तस्कर फरार हो गया। आरोपित के खिलाफ पुलिस कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है। कोतवाल अरुण कुमार सैनी ने जानकारी दी। उन्होंने बताया कि तस्कर के खिलाफ केस दर्ज किया जा रहा है। हंगामे के बाद महिलाओं को समझाकर घर भेज दिया गया।

To Top