Uttarakhand News

उत्तराखंड की स्नेह राणा है दमदार, इंग्लैंड के बाद ऑस्ट्रेलिया में भी कर दिया कमाल


Ad
Ad

नई दिल्ली: ऑस्ट्रेलिया दौरे पर वनडे सीरीज़ के आखिरी मुकाबले में भारतीय महिला टीम को जीत मिली है। भारत ने तीसरे और अंतिम वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया को दो विकेट से हराया और उसके लगातार 26 वनडे मैच जीतने के सिलसिले को भी तोड़ा। ऑस्ट्रेलिया में होने वाली टेस्ट सीरीज़ से पहले भारतीय टीम के मनोबल के लिए यह जीत बेहद अहम है। इस जीत में कई खिलाड़ियों का योगदान रहा और उसमें देहरादून की स्नेह राणा भी शामिल है। स्नेह राणा ने 27 गेंदों में 30 रन बनाए और लक्ष्य का पीछा कर रही टीम की उम्मीद जिंदा रखी। उस वक्त पर स्नेह एकलौती बल्लेबाज थी जो क्रीज़ पर थी। उन्होंने गेंदबाजी में भी एक विकेट हासिल किया। मेजबान टीम ने पहले खेलते हुए 9 विकेट पर 264 रन बनाए और भारत के सामने जीत के लिए 265 रन का लक्ष्य रखा।

Ad
Ad

ऑस्ट्रेलिया की कप्तान मेन लानिंग ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 9 विकेट पर 264 रन बनाए।इसके जवाब में भारतीय टीम ने तीन गेंद पहले ही आठ विकेट खोकर लक्ष्य का पीछा कर लिया। आस्ट्रेलिया की तरफ से ऐश्ली गार्डनर ने 62 गेंदों में आठ चौकों और दौ छक्को की मदद से सबसे ज्यादा 67 रन बनाए जबकि बेद मूनी ने 64 गेंदों में छह चौकों की मदद से 52 रन बनाए। इसके अलावा तालिय मैकग्रा (47), रेचल हेंस (13), अलिसा हेली (35), मेन लानिंग (00), एलिस पेरी (26), एनाबेल सदरलैंड (00) सोफी मोलिन्यू (01) रन बनाकर पवेलियन लौटीं जबकि निकोला कैरी (12) और स्टेला कैंपबेल (0) रन बनाकर नाबाद रही। भारत की ओर से झूलन गोस्वामी और पूजा वसत्राकर ने तीन-तीन विकेट लिए जबकि स्नेह राणा को एक विकेट मिला।

भारत के लिए यास्तिका भाटिया (64) और शेफाली वर्मा (56) और स्नेह राणा की 30 रनों की पारी बेहद अहम रही। यास्तिका ने शेफाली के बीच दूसरे विकेट के लिए 101 रनों की साझेदारी हुई। दोनों ने ही अपने अपने वनडे करियर का पहला अर्धशतक जड़ा। दोनों के आउट होने के बाद भारतीय टीम पर एक बार फिर हार का खतरा मंडरा रहा था। दीप्ति शर्मा और स्नेह राणा के बीच 33 रनों की साझेदारी ने मैच में भारत को बनाए रखा।

30 गेंदों पर 31 रन बनाकर दीप्ति आउट हो गईं और स्नेह राणा पर अब भारत को जीत की मंजि़ल तक पहुंचाने की जिम्मेदारी थी।इसे बखूबी अंजाम देते हुए वह 48वें ओवर में तीन गेंदों पर तीन चौके लगाकर भारत को जीत के करीब ले आईं थी। लेकिन 30 रनों पर उनका अद्भुत कैच सब्स्टिट्यूट खिलाड़ी हैना डालिर्ंग्टन ने पकड़ा और एक बार फिर मैच ऑस्ट्रेलिया की ओर घूमता नजर आया। आखिरी लम्हों में अनुभवी झूलन ने धैर्य के साथ काम लिया और टीम इंडिया को ऐतिहासिक जीत दिला दी। इस मल्टी-फॉमेट सीरीज में भारत की ये पहली जीत है।

Join-WhatsApp-Group
Ad
Ad
Ad
To Top