Uttarakhand News

सतर्क रहने से ही मिलेगी राहत…उत्तराखंड के तीन जिले हुए पूरी तरह कोरोना मुक्त


सतर्क रहने से ही मिलेगी राहत...उत्तराखंड के तीन जिले हुए पूरी तरह कोरोना मुक्त
Ad
Ad

हल्द्वानी: कोरोना के मामले बढ़ने के साथ ही फैला खतरा उत्तराखंड की सीमाओं में भी प्रवेश कर चुका है। ओमीक्रोन के चार मामले राज्य में अबतक आ चुके हैं। जिसके बाद प्रदेश में नाइट कर्फ्यू भी लगाया गया है। बहरहाल राहत भरी खबर ये है कि मंगलवार के बुलेटिन के अनुसार प्रदेश के तीन जिले ऐसे हैं जो पूरी तरह कोरोना मुक्त हो चुके हैं।

Ad
Ad

गौरतलब है कि साउथ अफ्रीका से शुरू हुए कोरोना के नए वैरिएंट ओमीक्रोन ने पूरी दुनिया में चिंता बढ़ा दी है। भारत में ओमीक्रोन के मामले भी धीमी गति से बढ़ने लगे हैं। मुसीबत उत्तराखंड से भी ज्यादा दूर नहीं हैं। पहले जहां उत्तराखंड में सिर्फ ओमीक्रोन का एक मामला सामने आया था। वहीं अब ये संख्या चार तक पहुंच चुकी है।

यही कारण रहा कि शासन प्रशासन समय रहते सतर्क हो गया है। सतर्कता का अंदाजा हाल ही में उत्तराखंड सरकार द्वारा लागू किए गए नाइट कर्फ्यू से लगाया जा सकता है। दरअसल प्रदेश सरकार ने बीते रोज़ ही रात 11 बजे से सुबह पांच बजे तक कर्फ्यू लगाने की घोषणा की है। आगामी थर्टी फर्स्ट के मौके पर पर्यटक स्थलों में होने वाली भीड़ को कंट्रोल करने के लिए यह एक अहम कदम माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड के लोगों के लिए खुशखबरी, बिजली की दरें नहीं बढ़ा पाएगा UPCL

बता दें कि मंगलवार को जारी हुए मेडिकल बुलेटिन के अनुसार प्रदेश के कुछ जिलों में राहत है। अच्छी बात ये है कि प्रदेश में तीन जिले (बागेश्वर, चमोली व रुद्रप्रयाग) कोरोना मुक्त हो चुके हैं। जबकि उत्तरकाशी जिले में केवल एक ही एक्टिव केस है। साथ ही दस से कम एक्टिव केस वाले जिलों में अल्मोड़ा, पौड़ी, चंपावत व टिहरी जिला शामिल हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड के लोगों के लिए खुशखबरी, बिजली की दरें नहीं बढ़ा पाएगा UPCL

कोरोना मामलों की बात करें तो उत्तराखंड में मंगलवार को कुल 44 संक्रमित पाए गए हैं। साथ ही 28 मरीज स्वस्थ होकर अपने घरों को भी लौटे। वहीं, प्रदेश भर में मंगलवार तक 227 एक्टिव मरीज थे। उत्तराखंड में अबतक 344843 मामले सामने आ चुके हैं। जिनमें से 331001 मरीज रिकवर भी हुए हैं। प्रदेश में अबतक 7416 मौत दर्ज की गई हैं।

यह भी पढ़ें 👉  टेस्ट क्रिकेट में देवभूमि के ऋषभ पंत का कारनामा, अब सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ दिया

हो ना हो, लेकिन राहत तो सतर्कता और अनुशासन के साथ ही मिल सकती है। प्रदेश को पूरी तरह से कोरोना मुक्त बनाने अथवा ओमीक्रोन के खतरे को कम करने के लिए सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करना ही होगा। हां, सतर्कता नहीं रहने से दिक्कतें बढ़ सकती हैं। हल्द्वानी लाइव भी आपसे यही अपील करता है कि सभी नियमों का पालन करें और अपना व अपनों का ख्याल रखें।

Join-WhatsApp-Group
Ad
Ad
Ad
To Top