Nainital-Haldwani News

नैनीताल में होटल बुकिंग के बिना पर्यटकों की एंट्री बैन,भवाली और भीमताल के लिए भी बना नियम


हल्द्वानी: कोरोना वायरस की तीसरी लहर से लोगों को बचाने के लिए जिला प्रशासन लगातार प्रयास कर रहा है। प्रशासन भीड़ कम कर रिस्क फेक्टर को कम कर रहा है। इसलिए वीकेंड के आने से पहले हर बार कोई नया प्लान फ्लोर पर उतारा जाता है। एक बार फिर नैनीताल जिला प्रशासन ने सैलानियों की एंट्री हेतु दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

नैनीताल में पर्यटकों को एंट्री के लिए होटल बुकिंग होना जरूरी है। इसके अलावा 72 घंटे पुरानी कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट और देहरादून स्मार्टपोर्टल पर पंजीकरण भी अनिवार्य है। वीकेंड के आते ही नैनीताल में भीड़ लगने लगती है। जाम की स्थिति पैदा होती है और पार्किंग व्यवस्था भी प्रभावित होती है। जिन पर्यटकों के पास होटल बुकिंग नहीं होगी उनके वाहनों पर भवाली या भीमताल के स्टीकर चिपकाए जाएंगे। ताकि पुलिस उन्हें नैनीताल के बजाय भवाली, भीमताल के लिए रवाना कर दे।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में अब घर-घर डॉक्टर करेंगे होम आइसोलेशन में रहे मरीजों की जांच

इससे पहले जिला प्रशासन ने वीकेंड पर नैनीताल में बाइक और स्कूटी की एंट्री को भी बैन किया हुआ है। सैलानियों को 10 किलोमीटर पहले अपना वाहन पार्क करना पड़ रहा है और इसके बाद वह शटल सेवा से नैनीताल में प्रवेश पा रहे हैं। नैनीताल की तरह मसूरी में भी सख्ती की गई है। पिछले दिनों उत्तराखंड के विख्या पर्यटक स्थलों में रिकॉर्ड भीड़ देखने को मिली थी और सबक लेते हुए प्रशासन लगातार बड़े फैसले ले रहा है। राज्य में 20 जुलाई तक कोरोना Curfew लागू है और इस बार एसओपी में साफ किया गया था वीकेंड पर जिलाधिकारी हालात को देखते फैसला ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  अच्छी खबर...काठगोदाम में जल्द शुरू होगा बिजली से चलनी वाली ट्रेनों का संचालन

कोरोना वायरस के मामले भले ही कम हो गए हैं लेकिन लापरवाही कर खतरे को न्यौता नहीं देना चाहती है। तीसरी लहर अनुमानित है और सुरक्षा हेतु स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को लगातार सुधारा जा रहा है ताकि आप स्थिति में सभी चुनौतियों से लड़ा जा सकें।

To Top