Uttarakhand News

नैनीताल में शहीद संजय बिष्ट को आखिरी सलाम, बेटे की बहादुरी कभी नहीं भूलेगा देश

नैनीताल: देश के लिए अपने प्राण निछावर करने वाले नैनीताल जिले के पैरा कमांडो संजय सिंह बिष्ट का पार्थिव शरीर शुक्रवार को उनके घर पहुंचा। शुक्रवार की दोपहर 2.20 बजे उनका पार्थिव शरीर जम्मू राजोरी से सैनिक स्कूल घोड़ाखाल हैलीकॉप्टर से पहुंचा।बता दें कि जम्मू-कश्मीर के राजौरी में बुधवार को सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में पैरा कमांडो संजय सिंह बिष्ट शहीद हो गए थे। नैनीताल जिले के रातीघाट के रहने वाले थे और साल 2012 में भारतीय सेना का हिस्सा बनें थे।

रानीखेत केआरसी के सैन्य अधिकारी शहीद का पार्थिव शरीर लेकर शहीद के घर पहुंचे। जिसके बाद रातीघाट के चित्रशिला घाट पर शहीद का सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। उनकी अंतिम यात्रा में हजारों लोग मौजूद रहे। इस दौरान उनकी शहादत को नमन करने के लिए लोगों ने नारे भी लगाएं। लोगों ने जब तक सूरज चांद रहेगा संजय तेरा नाम रहेगा और भारत माता की जय के नारों से शहीद को श्रद्धांजलि दी। नैनीताल एसडीएम प्रमोद कुमार, रानीखेत केआरसी के ब्रिगेडियर गौरव बग्गा, केआरसी रानीखेत के कर्नल राजेश रद्द, सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के प्रधानाचार्य ग्रुप कैप्टन विजय डंगवाल ने शहीद पैरा कमांडो संजय सिंह बिष्ट को श्रद्धाजंलि दी।

To Top
Ad