Uttarakhand News

बागेश्वर की मनीषा रावल को भारत में पहला स्थान, बच्चों के खिलौने बनाकर रौशन किया नाम

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

बागेश्वर: खेल कूद के क्षेत्र से उत्तराखंड को फिर एक बार एक बेटी ने गौरवान्वित किया है। बागेश्वर के सलानी गांव की निवासी मनीषा रावल ने राष्ट्रीय कला उत्सव “माइण” में खेल खिलौने विधा में प्रतिभाग करने के साथ ही बेटी ने प्रथम पुरस्कार पाया है। उनकी इस उपलब्धि पर पूरा प्रदेश गर्व महसूस कर रहा है। मुख्यमंत्री धामी सहित बड़ी हस्तियां बेटी को बधाई दे रही हैं।

दरअसल, इस प्रतियोगिता का आयोजन बीते 3 जनवरी से 7 जनवरी तक उड़ीसा में किया गया था। जिसमें देशभर में पढ़ने वाले कक्षा 9वीं से 12वीं के 715 छात्र छात्राओं ने प्रतिभाग किया था। जिसमें मनीषा रावल ने पहला स्थान हासिल किया है। मनीषा चमोली जिले की सीमा से लगे लाहुरघाटी के एकमात्र जीआईसी सलानी में कक्षा 9वीं की छात्रा हैं।

मनीषा रावल ने राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित कला उत्सव में खेल खिलौना विधा में प्रथम पुरस्कार हासिल कर प्रदेश का मान बढ़ाया है। प्रतियोगिता में मनीषा ने काष्ट कला से बनाए यज्ञ की सामग्री और बच्चों के खिलौने प्रस्तुत किए, जो कि मनीषा ने खुद बनाए थे। उनके द्वारा प्रदर्शित किए गए इन काष्ठ कला उत्पादों का आयोजकों द्वारा खासा पसंद किया है।

यह भी पढ़ें 👉  सुशीला तिवारी हॉस्पिटल में हुआ गजब, आंखों का ऑपरेशन कराने आए बुजुर्ग का पर्स हुआ चोरी

यही कारण रहा कि इस विधा में मनीषा ने प्रथम स्थान हासिल किया है। अपनी इस अभूतपूर्व उपलब्धि का श्रेय मनीषा ने अपने माता पिता एवं अपने शिक्षक डॉक्टर हरीश दफौटी को दिया है। बता दें कि शिक्षक हरीश के मार्गदर्शन में ही मनीषा ने यह खिलौने तैयार किए थे। इस तरह मनीषा ने पूरे प्रदेश की बेटियों को प्रेरित करने का काम किया है।

To Top