Ad
Rajasthan

राजस्थान में अगर भाजपा ने प्लान 70 उतारा तो कई नेताओं का करियर होगा खत्म…!

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

नई दिल्ली: भाजपा हर वक्त चौकाने वाले फैसले लेने के लिए जानी जाती है। राजस्थान में साल 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा रणनीति तैयार करने में जुट गई है। हालांकि पार्टी में सीएम पद के चेहरे को लेकर खींचातान जारी है। भाजपा और कांग्रेस दोनों दलों में नेताओं के गुट हैं जो वक्त-वक्त में अपने बयानों से मतभेदों के सामने ले आते हैं। कांग्रेस में सचिन पायलट युवा फौज तैयार करने की बात कह चुके हैं। आगे पढ़ें…

इसी तरह राजस्थान बीजेपी के मुखिया सतीश पूनिया ने राजनीति में रिटायरमेंट की 70 साल उम्र का पक्ष लिया है। उनके ऐसा करने से राजस्थान में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। सबसे पहले पू्र्व सीएम वसुंधरा राजे की बात हो रही हैं। क्योंकि वह चुनाव में एक बड़ा रोल अदा करना चाहती हैं। आगे पढ़ें…

बता दें कि सतीश पूनिया की उम्र 57 साल है और उनकी मुख्य प्रतिद्वंद्वी वसुंधरा राजे विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले अगले साल मार्च में 70 साल की हो जाएंगी। भाजपा का 70 उम्र वाला फॉर्मूला कई नेताओं के करियर को खत्म कर सकता है। हालांकि पूनिया ने बाद में साफ किया कि यह उनकी निजी राय है। आगे पढ़ें…

पूनिया ने कहा था कि सरकार 60 साल में अपने कर्मचारियों को सेवानिवृत्त करती है और मुझे लगता है कि राजनीति में भी 70 साल बाद व्यक्ति को मार्ग दर्शन देना चाहिए और नई पीढ़ी को तैयार करना चाहिए। राजे के अलावा, राजस्थान में विपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया, 77 और कैलाश मेघवाल, जो 80 की उम्र पार कर चुके हैं।

Join-WhatsApp-Group
To Top