Ad
Uttarakhand News

प्रदेश अध्यक्ष गोदियाल ने ली कांग्रेस की हार की जिम्मेदारी, कहा पद छोड़ने को तैयार हूं…

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

देहरादून: कांग्रेस पार्टी को प्रदेश भर में एक बार फिर करारी हार का सामना करना पड़ा है। जहां पिछली बार पार्टी को 11 सीटें मिली थी तो इस बार 19 सीटों पर ही कांग्रेस सिमट गई है। वहीं पार्टी के दिग्गज भी अपनी-अपनी सीटों से चुनाव हारे हैं। इनमें शामिल उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल का दर्द भी आंसू के रूप में छलक पड़ा है।

उत्तराखंड कांग्रेस के अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने देहरादून स्थित प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने विधानसभा चुनाव में पार्टी को मिली हार की जिम्मेदारी स्वीकार की है। उन्होंने कहा कि होली के बाद पार्टी पूरी समीक्षा करेगी कि आखिर इस हार के पीछे के क्या कारण है। इस दौरान उन्होंने भावुक होते हुए कुछ बातें कहीं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: सीडीओ का चेतावनी भरा फरमान,एक हफ्ते में सुधार नहीं हुआ तो नौकरी होगी खत्म

गणेश गोदियाल ने कहा कि अगर पार्टी चाहती है तो वह सहर्ष पद छोड़ने को भी तैयार हैं। उल्लेखनीय है कि गणेश गोदियाल, हरीश रावत और प्रीतम सिंह उन बड़े नेताओं में शामिल थे। जिनके नेतृत्व में कांग्रेस ने इस विधानसभा चुनावों में लड़ाई लड़ी थी। हैरानी वाली बात यह है कि गणेश गोदियाल खुद भी पौड़ी की श्रीनगर सीट से हार गए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  सीएम धामी ने रिपीट किया पीएम मोदी का वादा, सात हजार से ज्यादा मकान बनाए जाएंगे

बीती 10 मार्च को उत्तराखंड की 70 विधानसभा सीटों पर हुए मतदान के नतीजे सामने आ गए। गणेश गोदियाल पौड़ी की श्रीनगर सीट से हार गए हैं। गणेश गोदियाल को भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी धन सिंह रावत के हाथों महज 587 वोटों से हार का सामना करना पड़ा है। बता दें कि गोदियाल शुक्रवार को जब प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव से रूबरू हुए तो यही वेदना आंखों से आंसू के रूप में छलक पड़ी है।

Join-WhatsApp-Group
To Top