Sports News

विजय हजारे ट्रॉफी: एक और करीबी मुकाबला हार गई उत्तराखंड क्रिकेट टीम

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

हल्द्वानी: सफेद गेंद से शानदार प्रदर्शन करने के बाद भी उत्तराखंड क्रिकेट टीम जीत से कुछ दूरी पर एक बार फिर रुक गई। जो कहानी सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में चल रही थी,वो विजय हजारे में भी जारी है। मध्य प्रदेश के खिलाफ उत्तराखंड क्रिकेट टीम को 10 रनों से हार का सामना करना पड़ा। इस हार के साथ एक बार फिर नॉक आउट में पहली बार पहुंचने का सपना भी लगभग टूट गया है। साल 2018-2019 सीजन से घरेलू क्रिकेट सीजन में शिरकत कर रही उत्तराखंड क्रिकेट टीम पिछले 4 सीजन में नॉक आउट में प्रवेश करने से वंचित रही। 2022-2023 सीजन में टीम इस मिथक को तोड़ने के लिए मैदान पर है लेकिन अब उसका ये सपना भाग्य के भरोसे है।

उत्तराखंड की बल्लेबाजी

मध्य प्रदेश के खिलाफ खेले गए मुकाबले की बात करें तो उत्तराखंड 277 रनों का लक्ष्य का पीछा कर रहा था। टॉप ऑर्डर के विफल होने की वजह से एक बार फिर मध्यक्रम ने टीम की वापसी तो कराई लेकिन वो जीत की लाइन क्रोस नहीं कर पाए। अवनीश सुधा 41, आदित्य तारे 52, स्वाप्निल 82 और दीक्षांशु नेगी ने 34 रनों का योगदान दिया। पांचवे विकेट के लिए दीक्षांशु और स्वाप्निल के बीच 81 रनों की शानदार साझेदारी तो हुई लेकिन इसे दोनों बल्लेबाद जीत में तब्दील नहीं कर पाए। निर्धारित 50 ओवर में उत्तराखंड 9 विकेट के नुकसान पर 266 रन ही बना पाई।

मध्य प्रदेश की बल्लेबाजी

मध्य प्रदेश ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 50 ओवर में 8 विकेट के नुकसान पर 276 रन बनाए। यश दुबे ने 72 , शुभम शर्मा ने 100 और आदित्य श्रीवास्तव ने 53 रनों का योगदान दिया। उत्तराखंड के स्वाप्निल ने 4 और दीक्षांशु नेगी को 2 विकेट हासिल किए।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड पेपर लीक मामला...अब प्रवक्ता परीक्षा की भी जांच होगी, पढ़ें

उत्तराखंड के प्रदर्शन पर नजर

घरेलू क्रिकेट सीजन में उत्तराखंड नई टीम है। ऐसे में टीम अनुभव ले रही है। सफेद बॉल से टीम का प्रदर्शन शानदार रहा है लेकिन अनुभव की कमी के वजह से टीम जीत हासिल नहीं कर पा रही है। सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में उत्तराखंड को मुंबई और विदर्भ के हाथों 2-2 रन से हार का सामना करना पड़ा था। देखना दिलचस्प होगा कि कब उत्तराखंड क्रिकेट टीम अपनी चोक करने की आदत को पीछे छोड़कर जीत हासिल करने की आदत डालती है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में बाइक से घर जा रहे दो भाइयों की मौत, सामने आई पूरी कहानी

To Top