Dehradun News

अफगानिस्तान से अपने घर देहरादून लौटे दो लोगों ने सुनाई आपबीती, कहा ये चार दिन कभी नहीं भूलेंगे

अफगानिस्तान से अपने घर देहरादून लौटे दो लोगों ने सुनाई आपबीती, कहा ये दिन कभी नहीं भूलेंगे

देहरादून: अफगानिस्तान को तालिबान द्वारा कब्जाए जाने की चर्चा पूरे विश्व में है। उत्तराखंड में भी काफी तनावपूर्ण माहौल है। यहां के काफी पूर्व सैनिक व लोग अफगानिस्तान में फंसे हुए है। बहरहाल काबुल स्थित ब्रिटिश दूतावास में सुरक्षा दे रहे दो लोग वतन वापिस लौटे हैं। दोनों ने चार दिन की लगातार यात्रा को कभी ना भूलने वाली घटना बताया।

दरअसल अफगानिस्तान की राजधानी काबुल की ब्रिटिश एंबेसी की सुरक्षा में डाकपत्थर निवासी सुनील थापा और बाडवाला निवासी भूपेंद्र सिंह तैनात थे। जो बुधवार को घर वापिस लौट गए। तालिबान और अफगानिस्तान के बारे में उन्होंने बताया कि वहां सबकुछ बदल गया है।

यह भी पढ़ें 👉  जन्मदिन पर उत्तराखंड सीएम ने DGP को दिए निर्देश,मेरे काफिले से जनता को नहीं होनी चाहिए परेशानी

गोरखा रेजिमेंट से अवकाश प्राप्त पूर्व सैनिक सुनील थापा के मुताबिक बीते 15-20 दिनों से तालिबानी कार्रवाई को देखते हुए दूतावासों में हलचल तेज थी मगर स्थिति ऐसे बदलेगी, ये अंदेशा नहीं था। अफगानिस्तान में अराजकता भरा माहौल है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में युवाओं की बल्ले बल्ले, विभिन्न विभागों के इन 1500 पदों पर होंगी भर्तियां

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी के पत्रकारों का होगा दिल्ली में सम्मान,डिजिटल मीडिया में बनाई पहचान

उन्होंने बताया कि 13 अगस्त की रात को ब्रिटिश अधिकारियों से काबुल छोड़ने का आदेश मिला तो वह डर गए। 14 अगस्त को अधिकारियों ने उनके ग्रुप को काबुल स्थित अमेरिका के एयर बेस पर मौजूद ब्रिटिश मालवाहक जहाज से दुबई भेजा। दुबई से लंदन और फिर लंदन से दिल्ली एयरपोर्ट। चार दिन की इस यात्रा में खाना, आराम करना या सोना जैसी सुविधाएं पूरी नहीं हो सकी।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी संकल्प कोचिंग के बच्चों को शाबाशी दें, JEE Mains में 13 बच्चे लेकर आए रिकॉर्ड अंक

बुधवार को सकुशल परिवार के पास लौटे सुनील थापा बताते हैं कि अब भी टीम के करीब 120 लोग काबुल में हैं। फिलहाल वे सुरक्षित हैं। हालांकि सुनील थापा के अनुसार तालिबानी विदेशी नागरिकों की सुरक्षा में कोई कमी नहीं कर रहे मगर यहां सभी के परिवार काफी टेंशन में हैं। डाकपत्थर के ही पूर्व सैनिक राजू सिंह अभी अफगानिस्तान में ही फंसे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में जीवित विधवा महिला को मृत दिखाकर रिश्तेदारों ने ही हड़प ली लाखों की ज़मीन

यह भी पढ़ें: काठगोदाम:निर्मला स्कूल के पास नहर में मिला बागेश्वर निवासी युवक का शव

यह भी पढ़ें: नैनीताल: एक मैसेज के वजह से हुई पर्यटक दीक्षा मिश्रा की हत्या, कबाड़ी इमरान ने बताई सच्चाई

यह भी पढ़ें: इलेक्ट्रिक वाहनों को लेकर दूर होगी टेंशन, पेट्रोल पंप में लगाए जाएंगे चार्जिंग प्वॉइंट

यह भी पढ़ें: एक्शन में पिथौरागढ़ डीएम आशीष चौहान, लापरवाही मिलने पर अधिकारियों का वेतन रोका

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top