Rudraprayag News

भारत के सबसे अमीर अंबानी परिवार की चारधाम के प्रति आस्था, एक बार फिर करोड़ो का दान किया

देहरादून: रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (Reliance Industries) के प्रमुख और उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) ने पिछले दिनों श्री बद्रीनाथ (Badrinath) और श्री केदारनाथ धाम (Kedarnath Dham) की यात्रा की। इस दौरान उनके बेटे अनंत अंबानी की मंगेतर राधिका मर्चेंट और अन्य रिश्तेदार भी मौजूद थे। अंबानी परिवार ने मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना की. इसके बाद अंबानी परिवार ने बद्रीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति (बीकेटीसी) को पांच करोड़ रुपये का चेक भी दान के रूप में दिया.

मुकेश अंबानी का बदरीनाथ और केदारनाथ पहुंचने पर बीकेटीसी ने उनका स्वागत किया। अंबानी पहले बद्रीनाथ और उसके बाद केदारनाथ धाम पहुंचे। बद्रीनाथ में बीकेटीसी अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने अंबानी का अंगवस्त्र भेंट कर स्वागत किया। अंबानी ने बीकेटीसी को पांच करोड़ रुपये की धनराशि दान दी। उन्होंने चेक के जरिए यह धनराशि बीकेटीसी के अध्यक्ष अजेंद्र अजय को सौंपी। इस अवसर पर बीकेटीसी के उपाध्यक्ष किशोर पंवार भी मौजूद थे।

बदरी केदार यात्रा में इन दिनों सबसे ज्यादा श्रद्धालु और वीआईपी दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं। भारतीय क्रिकेटर सुरेश रैना ने भी बद्री केदार के दर्शन किए थे। इससे पहले ऋषभ पंत ने भी दोनों धाम के दर्शन किए। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी बदरी विशाल और बाबा केदार के दर्शन किए।

चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं का सिलसिला अब भी जारी है। 22 अप्रैल से शुरू हुई चारधाम यात्रा अब हालाँकि अंतिम चरण में है, फिर भी केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में भक्तों की भीड़ उमड़ रही है। रोजाना चार धामों में 20 से 22 हजार श्रद्धालु दर्शन कर रहे हैं।

इस बार चारधाम यात्रा पर आने वाले तीर्थयात्रियों ने अब तक के सारे रिकॉड तोड़ते हुए एक नया इतिहास रच दिया है। पहली बार यात्रा में दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं का आंकड़ा 50 लाख पार हो गया है। उत्तराखंड पुलिस द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, 16 अक्टूबर 2023 तक चारधाम दर्शन करने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या 50.12 लाख से अधिक पहुंच गयी है। इसके साथ ही लगभग 5 लाख 41 हजार वाहन भी चारधाम पहुंचे हैं। चारधाम यात्रा के लिए अब तक 71 लाख से अधिक तीर्थयात्रियों ने पंजीकरण कराया है। इसमें 50 लाख से अधिक दर्शन कर चुके हैं। इस बार प्रदेश सरकार ने यात्रा के लिए पंजीकरण अनिवार्य किया है।

To Top
Ad