Pithoragarh News

मुनस्यारी के मेसी ‘हेमराज’ को मिला आगे बढ़ने का रास्ता,एमिनिटी अकादमी ने उठाई जिम्मेदारी

Ad
Ad
Ad
Ad

हल्द्वानी: सोशल मीडिया का जादू कुछ अलग ही है। इस मंच ने कई लोगों की जिंदगी बदली है। उत्तराखंड के कई लोग हैं जिन्हें सोशल मीडिया के माध्यम से नई पारी शुरू करने का मौका मिला है। मार्च में आप सभी ने प्रदीप मेहरा को पहचाना होगा। लड़का नोएडा की सड़कों पर देर रात 12 बजे दौड़ रहा था और वीडियो वायरल होने के बाद करोड़ों लोगों को प्रेरित कर गया। इसके बाद प्रदीप को कई लोगों ने मदद का हाथ भी बढ़ाया। वहीं भारतीय सेना में उनका जाने का सपना पूरा करने के लिए  मिनर्वा सैन्य अकादमी आगे आई थी।

प्रदीप की तरह ही पिथौरागढ़ के मुनस्यारी के रहने वाले हेमराज जौहरी के साथ हुआ। हेमराज एक फुटबॉल खिलाड़ी है। वह अपने क्षेत्र में एक प्रतियोगिता में खेल रहे थे। एक मैच में उन्होंने कॉर्नर लेते वक्त बिना किसी खिलाड़ी की मदद से फुटबॉल को नेट के अंदर डाल दी। इस कीक को फुटबॉल की भाषा में बनाना कीक कहते हैं। हेमराज के इस प्रदर्शन का वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड होते ही वायरल हो गया। उन्हें लोग भारत का नया फुटबॉल स्टार कहने लगे। हेमराज की तारीफ उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी की और शुभकामनाएं भी दी। इसके अलावा देश के तमाम फुटबॉल क्लब हेमराज के वीडियो को साझा कर रहे हैं और उन्हें स्पेशल टैलेंट कह रहे हैं।

उत्तराखंड के पर्वतीय जिलों में संसाधनों की कमी है। हेमराज के पिता टेलर का काम करते हैं और फुटबॉल खिलाड़ी बनने का सफल आधुनिक ट्रेनिंग के होकर ही जाएगा। वीडियो के वायरल होने के बाद रुद्रपुर में स्थित विख्यात एमिनिटी अकादमी आगे आई है। उन्होंने हेमराज की पढ़ाई ,ट्रेनिंग और हर तरह की जिम्मेदारी उठाने की बात की है, ताकि उत्तराखंड के बेटे को आगे बढ़ने का मौका मिले। अकादमी के डायरेक्टर सुभाष अरोड़ा ने एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि उत्तराखंड में प्रतिभाओं की कमी नहीं है। हेमराज एक स्पेशल टैलेंट है और हम उन्हें आगे ले जाएंगे। उन्होंने कहा कि अकादमी की ओर से हेमराज को सारी सुविधाएं फ्री ऑफ कोस्ट उपलब्ध कराई जाएगी।

प्रदीप और हेमराज की कहानी एक जैसी ही है। दोनों अपना काम कर रहे थे और टैलेंट वीडियो के माध्यम से सामने आ गया है।इसके बाद दोनों को वह सहारा मिल गया जिसकी दरकार हर किसी को होती है। हमें उम्मीद है पहाड़ के दोनों बच्चे ऐसा काम करेंगे जो भविष्य में युवाओं को ऊर्जा से भर देगा। क्योंकि जहां से चैंपियन काम करना शुरू करते हैं वहां पर कई लोग दम तोड़ देते हैं।

Join-WhatsApp-Group
Ad
यह भी पढ़ें 👉  पंतनगर-पिथौरागढ़ के बीच शुरू होगी हवाई सेवा, दिसंबर में मिल सकती है खुशखबरी!
To Top