Dehradun News

डिप्रेशन में चल रहे प्रसिद्ध डॉक्टर अरोड़ा ने नहर में कूदकर दी जान

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

देहरादून: डिप्रेशन इंसान की जान तक ले सकता है। यह एक बार फिर से सिद्ध हो गया है। एक प्रसिद्ध डॉक्टर ने दो बार आत्महत्या के प्रयास विफल होने के बाद तीसरी बार अपनी जान दे ही दी। विकासनगर के एक निजी अस्पताल के चिकित्सक हंसराज अरोड़ा ने शक्तिनहर में कूदकर जान दे दी। उनका शव रविवार को एसडीआरएफ ने ढकरानी पावर हाउस से बरामद किया।

बताया जा रहा है कि शनिवार की देर रात नवाबगढ़ पंचायत के डाक्टरगंज क्षेत्र में पुल नंबर एक व दो के बीच उन्होंने नहर में छलांग लगाई थी। इस दौरान उनका बेटा सार्थक अरोड़ा किसी काम से देहरादून गया था। वह पिता के साथ ही विकासनगर मे प्रैक्टिस करता है जबकि बहु किसी निजी अस्पताल में सेवाएं दे रही है। नौकर सुनील को डॉ. अरोड़ा ने घर भेज दिया था।

रात करीब साढ़े दस बजे डॉ. अरोड़ा अपनी कार से नहर के पास गए और कार व चप्पल छोड़कर नहर में छलांग लगा दी। जब देर रात उनका बेटा घर आया तो पिता के बारे में पुलिस को सूचित किया। रात में पुलिस को घटनास्थल से गाड़ी व चप्पल मिली और रविवार को तलाश के दौरान एसडीआरएफ व पुलिस की टीम को उनका शव भी मिल गया।

यह भी पढ़ें 👉  ये तो कमाल हो गया, रणजी ट्रॉफी में उत्तराखंड के ओपनर अवनीश सुधा ने झटके 6 विकेट

जानकारी के अनुसार कुछ साल पहले उनकी पत्नी की हार्ट अटैक और बेटी की अमेरिका में हादसे में मौत के बाद से वह डिप्रेशन में थे। वह पहले भी दो बार नहर में कूदकर सुसाइड का प्रयास कर चुके थे। मगर तब स्थानीय लोगों ने उन्हें बचा लिया था। पुलिस ने शव का पंचनामा के बाद मोर्चरी में रखवा दिया है। कोतवाल शंकर सिंह बिष्ट ने कहा कि मामले की जांच की रही है।

To Top