National News

देश के लिए गोल्ड मेडल लाने वाले शूटर नमनवीर सिंह ने खुद को मारी गोली


देश के लिए गोल्ड मेडल लाने वाले शूटर नमनवीर सिंह ने खुद को मारी गोली
Ad
Ad
Ad
Ad

नई दिल्ली: तनाव युवा पीढ़ी को आत्मघाती कदम उठाने के लिए मजबूर कर रहा है। लगातार खुदकुशी से जुड़े मामले सामने आ रहे हैं। इस बार बड़ी खबर ये है कि देश के लिए गोल्ड से लेकर ब्रांज मेडल जीतने वाले निशानेबाज नमनवीर बराड़ ने खुदकुशी कर ली है। उन्होंने मोहाली स्थित अपने घर में खुद को गोली मारकर खत्म कर लिया।

मोहाली सेक्टर-71, मकान नं. 1097 में अपने परिवार के साथ रह रहे जाने माने ट्रैप शूटर नमनवीर बराड़ महज 29 साल के थे। सोमवार को नमनवीर ने घर पर ही खुद को गोली से शूट कर लिया। उन्होंने अपने सिर पर पिस्टल की मदद से गोली चला दी। जिससे मौके पर ही मौत हो गई। बताया जा रहा है कि नमनवीर कुछ दिनों से मानसिक रूप से परेशान चल रहे थे।

यह भी पढ़ें 👉  स्वतंत्रता दिवस पर महबूबा मुफ्ती राष्ट्रीय ध्वज पर भड़की, कश्मीरियों को डराया गया है

घटना की सूचना मिलने के बाद मोहाली पुलिस मौके पर आ गई। मामले की जांच की जा रही है। जानकारी के मुताबिक पुलिस ने घर के चारों ओर पुलिस बल तैनात किया है। एसपी हरविंदर विर्क व थाना मटौर के एसएचओ पुलिस टीम सहित मौके पर पहुंचे। अभी पता नहीं चल सका है कि गोली कैसे चली। बता दें कि नमनवीर के घर में उनकी पत्नी और माता-पिता रहते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  स्वतंत्रता दिवस पर महबूबा मुफ्ती राष्ट्रीय ध्वज पर भड़की, कश्मीरियों को डराया गया है

गौरतलब है कि ट्रैप निशानेबाज बराड़ इस साल मार्च में दिल्ली निशानेबाजी विश्व कप के न्यूनतम योग्यता स्कोर (एमक्यूएस) वर्ग में चौथे स्थान पर रहे थे। उन्होंने साल 2015 में दक्षिण कोरिया के ग्वांगजू में वर्ल्ड यूनिवर्सिटी गेम्स के डबल ट्रैप शूटिंग इवेंट में कांस्य पदक जीता था। इतना ही नहीं पंजाब यूनिवर्सिटी के विद्यार्थी रहे नमनवीर ने 2013 में फिनलैंड में देश के लिए गोल्ड मेडल जीता था चुके थे।

यह भी पढ़ें 👉  स्वतंत्रता दिवस पर महबूबा मुफ्ती राष्ट्रीय ध्वज पर भड़की, कश्मीरियों को डराया गया है

नमन ने शूटिंग अपने कॉलेज में ग्रेजुएशन के दूसरे साल से ही शुरू कर दी थी। बहुत कम वक्त में ही नमनवीर ने बड़े बड़े कारनामे करना शुरू कर दिया था। नमन के पिता अरविंदर सिंह बराड़ और मां हरप्रीत कौर बराड़ हमेशा उन्हें शूटिंग के लिए प्रेरित करते रहते थे। लाजमी है कि तनाव और मानसिक पीड़ा ने एक और जान ले ली है।

Join-WhatsApp-Group
To Top