Nainital-Haldwani News

हल्द्वानीः दो दिन में रोडवेज, केमू, टैक्सी और डाकघरों को लगी बड़ी चपत, अस्पतालों में पसरा सन्नाटा


Haldwani news: Banbhulpura case: Loss of Roadways, KMOU, Taxi: हल्द्वानी के बनभूलपुरा क्षेत्र में हुए बवाल और हिंसा के कारण जहां पूरे शहर ने कर्फ्यू का दंश झेला वहीं रोडवेज, केमू, टैक्सी और डाकघरों को लाखों का नुकसान झेलना पड़ गया। ट्रक वाहनों का आवागमन बंद रहने से दो दिन में कुमाऊं और गढ़वाल को जाने वाला खाद्यान्न, सीमेंट, सरिया आदि का कारोबार नहीं हो सका। देवभूमि ट्रक ऑनर्स वेलफेयर महासंघ के अनुसार, दो दिन में करीब सात करोड़ का कारोबार प्रभावित हुआ है। वहीं, बेस और सुशीला तिवारी अस्पतालों में भी नाममात्र के मरीज पहुंचे। ऑटो, रिक्शा न चलने की वजह से मरीजों को पैदल दूरी तय करनी पड़ी। हालांकि रविवार सुबह से कर्फ्यू में ढील के बाद शहर में सभी सेवाएं सुचारु होने की उम्मीद है।

उत्तराखंड परिवहन निगम और केमू को भी करीब 55 लाख रुपये का नुकसान हुआ। सवारियां न होने के कारण कई रूट पर बसें नहीं भेजी जा सकीं जबकि दिल्ली, देहरादून और अन्य शहरों से आने वाली बसें भी नाममात्र की सवारियां लेकर पहुंच रही थीं। ऐसे में शुक्रवार और शनिवार को रोडवेज की ओर से केवल 45 बसों का संचालन हो सका। वहीं केमू की बसें भी दो दिन तक फर्राटा नहीं भर सकीं। जिसके कारण बस मालिकों और प्रबंधन को करीब 15 लाख रुपये का नुकसान हुआ। हल्द्वानी रोडवेज के एआरएम सुरेंद्र बिष्ट के मुताबिक, कर्फ्यू के कारण सवारी न मिलने के कारण रोडवेज को करीब 40 लाख रुपये का नुकसान हुआ है। वहीं केएमओयू के अधिशासी अधिकारी हिम्मत सिंह के अनुसार, दो दिन से बसें नहीं चलने के कारण कंपनी को करीब 15 लाख रुपये का नुकसान हो गया।

इधर, टैक्सी संचालन भी कर्फ्यू की मार से बच नहीं सका। हल्द्वानी टैक्सी यूनियन के अध्यक्ष भरत भूषण के मुताबिक, हल्द्वानी यूनियन से 1800 जबकि काठगोदाम से 600 वाहन संबद्ध हैं। जिनमें से प्रतिदिन औसतन 300 से 400 वाहन संचालित होते हैं। लेकिन दो दिन में टैक्सी संचालन न होने से कारोबार फीका रहा।

वहीं, कर्फ्यू के कारण डाकघरों में दो हजार से अधिक डाक रुकने से करीब तीन लाख रुपये का कामकाज प्रभावित हुआ है। प्रधान डाकघर के पोस्टमास्टर गौरव जोशी के अनुसार, कर्फ्यू के दौरान आवाजाही रुकने से अल्मोड़ा से रुद्रपुर डाक पहुंचाने वाला वाहन भी रोका गया है, जिसके कारण कुमाऊं भर की डाक रुक गई। वहीं इंटरनेट सेवा बंद रहने से आधार कार्ड अपडेशन, आरडी, रजिस्ट्री जैसे कार्य भी नहीं हो सके। इस वजह से दो दिन में तीन लाख से अधिक के राजस्व की हानि हुई है। हालांकि, रविवार से बनभूलपुरा क्षेत्र को छोड़कर बाकि शहर में कर्फ्यू में ढील के बाद अब स्थिति सामान्य होने की उम्मीद है। इंटरनेट सेवा भी बवाल वाले क्षेत्र को छोड़कर शहर भर में बहाल हो गई हैं। ऐसे में रोडवेज, केमू, टैक्सी समेत दूसरी सेवाएं भी पटरी पर आने की उम्मीद जताई जा रही है।

To Top