Nainital-Haldwani News

शादियों के सीजन में हल्द्वानी डिपो के आए अच्छे दिन, हर दिन हो रही 16-17 लाख रुपए की कमाई


शादियों के सीजन में हल्द्वानी डिपो के आए अच्छे दिन, हर दिन हो रही 16-17 लाख रुपए की कमाई
Ad
Ad
Ad
Ad

हल्द्वानी: शादियां दो जनों की नहीं बल्कि दो परिवारों की होती हैं, धार्मिक मान्यता यही कहती है। सहालग लगते ही शादी की खुशियां हर तरफ नजर आ रही हैं। उत्तराखंड रोडवेज (Uttarakhand Roadways) को भी शादियों के सीजन में खुशियां नसीब हो रही हैं। कमाई के मामले में रोडवेज को अधिकाधिक कमाई हो रही है। बता दें कि हल्द्वानी डिपो ने एक दिन में 16 लाख से भी अधिक की कमाई कर डाली है।

उत्तराखंड रोडवेज और घाटा, पिछले कोरोना काल से लेकर अबतक इन दो को एक दूसरे से जोड़कर ही बात की जाती थी। लेकिन अब दिन बदल रहे हैं। पहले दिवाली-भाईदूज (Diwali-Bhaidooj) और अब शादियों का सीजन (Wedding season) रोडवेज की आर्थिकी के लिए संजीवनी बनकर आया है। नैनीताल रीजन (Nainital region) को खासतौर पर शादियों का काफी फायदा मिल रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  डीएम ने दिया नैनीताल भवाली राजमार्ग पर अपडेट, इन्हें मिलेगी एंट्री लेकिन...

सोमवार को नैनीताल रीजन के आठ डिपो ने मिलाकर 84.96 लाख रुपये टिकट से कमाए। गौरतलब है कि दिल्ली, बरेली से लेकर अन्य जगहों के यात्रियों की भीड़ अचानक से बढ़ गई है। जिस कारण हल्द्वानी (Haldwani depot) से लेकर तमाम डिपो पर भीड़ जमा हो रही है। इसी वजह से रोजाना अतिरिक्त बसें चलानी पड़ रही हैं। हल्द्वानी लाइव (Haldwani Live) ने बीते दिन एक खबर प्रकाशित की थी जिसमें हमने आपको बताया था कि हल्द्वानी डिपो प्रबंधन ने दो दिन में दिल्ली के लिए 49 बसें भेजी हैं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में विजिलेंस टीम ने रजिस्ट्रार कानूनगो को घूस लेते पकड़ा

इसी कारण से हर डिपो की कमाई में भी खासा उछाल आया है। बता दें कि पहाड़ की बसें हो या मैदान को जाने वाली बसें, हर बस से रोडवेज को खासा फायदा हो रहा है। केमू से लेकर इंटरसिटी और अन्य प्राइवेट बसें इस समय बुकिंग (booking) में चल रही है। रोडवेज अफसरों की मानें तो सोमवार को काठगोदाम डिपो (Kathgodam depot) ने 19.27 और हल्द्वानी डिपो ने 16.63 लाख की कमाई की।

हल्द्वानी रोडवेज डिपो प्रबंधन की मानें तो वर्तमान समय में हर दिन डिपो को 16-17 लाख (अनुमानित) रुपए की कमाई हो रही है। इस कमाई का बड़ा कारण दोनों साइड से बसों का भरना भी है। गौरतलब है कि पहले जहां केवल हल्द्वानी से जाने वाले यात्रियों की भीड़ अधिक रहती थी, वहीं अब हल्द्वानी आने वालों की भी भीड़ अधिक है। साथ ही डग्गामारी करने वाले प्राइवेट बसों पर शिकंजा कसने से भी हल्द्वानी डिपो को खासा फायदा हुआ है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में 7 अगस्त तक बारिश अलर्ट, नदी-नालों के पास नहीं जाए

(डिपो)       –     कमाई (लाख में)

हल्द्वानी   –  16.63

काठगोदाम  – 19.27

रामनगर    –   10.32

रानीखेत    –   3.58

रुद्रपुर     –     15.85

काशीपुर   –     9.8

भवाली      –    3.92

अल्मोड़ा    –    5.59

Join-WhatsApp-Group
To Top