Nainital-Haldwani News

हल्द्वानी के सांझ रेस्ट्रों की नई शुरुआत, कॉल कर बुक करा सकते हैं पहाड़ी व्यंजन


हल्द्वानी के सांझ रेस्ट्रों की नई शुरुआत, कॉल कर बुक करा सकते हैं पहाड़ी व्यंजन
Ad
Ad
Ad
Ad

हल्द्वानी: पहाड़ की कला, भाषा, परिवेश और अब व्यंजन खासा प्रसिद्ध हो रहे हैं। देवभूमि के लोग पहाड़ के स्वादिष्ट और सेहतमंद भोजन को अच्छे ढंग से लोगों को परोस रहे हैं। इसी कड़ी में हल्द्वानी स्थित सांझ रेस्ट्रों ने बेहतरीन शुरुआत की है। सांझ ने अपने मेन्यू लिस्ट में पहाड़ी व्यंजनों को जगह देकर इन्हें बढ़ावा देने का काम किया है।

हल्द्वानी कमलुआगांजा में हाल ही में सांझ नाम से एक रेस्ट्रों खुला है। अगर आप पहाड़ से ताल्लुक रखते हैं तो आप रेस्ट्रों की मेन्यू लिस्ट देखकर जरूर खुश होंगे। दरअसल मेन्यू में कई पहाड़ी व्यंजन शामिल किए गए हैं। सांझ प्रबंधन ने पर्वतीय क्षेत्रों की ओर जाने वाले पर्यटकों व स्थानीय लोगों के लिए यह खास शुरुआत की है। साथ ही सांझ रेस्ट्रों कॉल कर टेबल बुक करने का अच्छा मौका भी दे रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  प्राथमिक शिक्षा के पाठ्यक्रम में शामिल हुई कुमाऊंनी,बच्चे स्कूल में संस्कृति से भी जुड़ेंगे

बता दें कि रेस्ट्रों के मेन्यू में स्पेशल राई रायता, भट्ट की चुड़कानी, गोहत की डाल, लोबिया की दाल, भट्ट के दुबके, मक्के की रोटी, मंडूए की रोटी, आलू के गुटके, सरसों का साग, लाल चावल, सना हुआ नींबू (मौसम के अनुसार) व भांग की चटनी आदि शामिल हैं। जो कि पहाड़ से आने या पहाड़ को जाने वाले पर्यटकों के लिए भी आकर्षण का केंद्र है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी की अपर्णा जोशी को अमेरिका में मिली एक करोड़ 64 लाख रुपये की स्कॉरशिप

स्थानीय लोग भी पहाड़ी व्यंजनों का स्वाद चख सकते हैं। खास बात ये है कि आसपास ठहरे हुए पर्यटकों व स्थानीय लोगों को केवल एक कॉल करनी है। जी हां, एक कॉल के साथ ही आप सांझ रेस्ट्रों में अपनी टेबल बुक करा सकते हैं। इससे आपके समय की भी खासा बचत हो सकेगी। बता दें कि सांझ का यह आइडिया पहाड़ी व्यंजनों के लिए भी एक सवेरा लेकर आ रहा है।

गौरतलब है कि पहाड़ के व्यंजन अधिकतर पहाड़ के दूरस्थ गांवों के घरों तक ही सीमित रह जाते हैं। उन्हें शहरों में आने का मौका नहीं मिल पाता। ऐसे में सांझ की इस पहल से हल्द्वानी में लोगों को पहाड़ का स्वाद मिल रहा है। इसमें कोई दोराय नहीं है कि पहाड़ी व्यंजनों में स्वाद के साथ साथ सेहत दुरुस्त रखने के गुण भी छिपे होते हैं। सांझ के प्रबंधक का कहना है कि पहाड़ी स्वाद को थाली में परोसने में अलग ही आनंद मिलता है। प्रबंधक का कहना है कि वह अपने रेस्ट्रों के माध्यम से हमेशा पहाड़ के काम आने की कोशिश करेंगे।

Join-WhatsApp-Group
To Top