Nainital-Haldwani News

महिला बॉक्सर की संदिग्ध हालात में मौत, MBPG कॉलेज से पढ़ाई कर रही थी हेमा दानू



हल्द्वानी: राज्य ने एक होनहार बॉक्सर को खो दिया है। कपकोट निवासी व हल्द्वानी MBPG कॉलेज की छात्रा हेमलता उर्फ हेमा दानू की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। परिजनों का कहना है कि कुछ दिन पहले हेमा खटीमा में मुकाबला खेलने गई थी। मुकाबले की हार के बाद वह काफी परेशान थी। उसने हार का कारण खराब अंपारिंग बताया था। हेमा कपकोट के बड़ेत (कफलानी) की रहने वाली थी और हल्द्वानी में ननिहाल में रहकर पढ़ाई कर रही थी। हेमा एमए के दूसरे समेस्टर में थी।

Ad

बागेश्वर जिले के कफलानी नाचनी कपकोट निवासी कृपाल सिंह की 20 साल की बेटी हेमलता ने कई टूर्नामेंट में कुमाऊं विश्वविद्यालय का नाम रौशन किया था। वह एक शानदार खिलाड़ी थी। हेमलता ने 2016 में कोटद्वार में आयोजित राज्य स्तरीय मैच में गोल्ड मेडल पर कब्जा जमाया था। वही 2018 में हेमा ने हरियाणा में आयोजित राष्ट्रीय स्तर के मैच में रजत पदक जीता था। हेमा की मौत के बाद घर पर कोहराम मच गया है। हेमा अपने ननिहाल में रहती थी जो छड़ायल में है। 10 सिंतबर को हेमा ने खटीमा में बॉक्सिंग टूर्नामेंट का फाइनल खेला था लेकिन उसे हार का सामने करना पड़ा था। हार के बाद से वह तनाव में थी। उसने रविवार को इस वजह से जहर खा लिया था। परिजनों ने हेमा को नैनीताल रोड स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां इलाज के दौरान देर रात उसकी मौत हो गई। आरोप है कि हेमलता गलत अंपायरिंग की वजह से तनाव में थी।

यह भी पढ़ें 👉  वंदना कटारिया ने टोक्यो ओलंपिक में बढ़ाया था भारत का मान...अब देवभूमि की बेटी को मिलेगा पद्मश्री सम्मान

काठगोदाम थाने की महिला उपनिरीक्षक लता खत्री ने जानकारी दी कि परिजनों ने मैच हारने के बाद हेमा के तनाव में रहने की बात कही है। वह पंजाब स्पोर्ट्स शिक्षण संस्थान से ट्रेनिंग ले रही थी। एमबीपीजी कॉलेज के क्रीड़ा प्रभारी डॉ. पुष्कर गौड़ ने हेमा की मौत के बाद दुख जाहिर किया। उन्होंने बताया कि कुमाऊं विश्विद्यालय की ओर से आयोजित अंतर विश्वविद्यालयी नेशनल बॉक्सिंग प्रतियोगिता में भाग लिया था। छोटी उम्र में ही वह एक शानदार बॉक्सर बन गई थी। वह देश के लिए मेडल जीतना चाहती थी। हेमलता की मौत की खबर सोशल मीडिया पर आते ही लोग उन्हें श्रद्धांजलि व्यक्त कर रहे हैं। इसके अलावा मैच के परिणाम और गलत अंपायरिंग की जांच की मांग भी उठ रही है।

यह भी पढ़ें 👉  डीजीपी अशोक कुमार ने हल्द्वानी में तैनात आरती पोखरियाल को पदक देकर किया सम्मानित


हेमा के निधन से कपकोट में शोक छा गया है। गांव के लोगों ने भी हेमा की मौत के कारणों की जांच होने की बात रही है। वह अपनी मां के साथ रहती थी। हेमा की प्रारंभिक पढ़ाई कपकोट के मां उमा हाईस्कूल से हुई। इसके बाद कक्षा 6 से कक्षा 12 तक की पढ़ाई विवेकानंद इंटर कॉलेज हिचौड़ी से पूरी की। हेमा की मां का निधन 10 साल पहले हो गया था। हेमा से छोटे दो भाई और एक बहन है। हेमा के पिता कृपाल सिंह दानू भारतीय फौज से रिटायर हैं।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में भाजपा को झटका, विधायक ने किया निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान

To Top