Dehradun News

इसे कहते हैं सफलता, भारत ने चांद पर भी ढूंढ निकाला पानी, देहरादून में विश्लेषण जारी


इसे कहते हैं सफलता, भारत ने चांद पर भी ढूंढ निकाला पानी, देहरादून में विश्लेषण जारी

नई दिल्ली: देश को बड़ी सफलता हाथ लगी है। चंद्रयान मिशन कामयाबी की ओर अग्रसर है। चांद पर पानी की उपस्थिति के प्रमाण मिले हैं। देहरादून समेत विभिन्न विज्ञानी इसका अध्ययन व विश्लेषण कर रहे हैं। इसे एक बड़ी उम्मीद के रूप में देखा जा रहा है।

Ad

बता दें कि चंद्रयान मिशन 2019 में लांच किया गया था। हालांकि लैंडिंग के दौरान लैंडर व रोवर चांद की सतह पर क्षतिग्रस्त हो गए थे। मगर आर्बिटर अभी भी चांद के ऊपर घूम रहा है। इमेजिंग इंफ्रारेड स्पेक्टोमीटर से मिले आंकड़ों का विश्लेषण किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी से भाजपा के जोगिंदर रौतेला ने भरा नामांकन, बोले मैं एक खुली किताब हूं...

यह भी पढ़ें: वंदना कटारिया की हैट्रिक ने किया कॉलोनीवासियों का काम

यह भी पढ़ें: उत्तराखण्ड में जनता को मिलेगी रोपवे और केबिल कार की सौगात, दिल्ली से आई गुड न्यूज

देहरादून स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट आफ रिमोट सेंसिग (आइआइआरएस) भी इसी में जुटा हुआ है। निदेशक प्रकाश चौहान ने बताया कि 29 डिग्री नार्थ से लेकर 62 डिग्री नार्थ के बीच पानी होने के संकेत मिले हैं। सूरज की रौशनी वाले क्षेत्र में पानी के संकेत मिल रहे हैं।

स्पेस वेदरिंग प्रक्रिया का रोल भी काफी अहम है। इसके तहत सौर हवाएं चांद की सतह पर टकराती हैं। साथ ही इस प्रक्रिया कुछ अन्य कारक भी विभिन्न रसायनिक बदलाव कर पानी की उम्मीद को जन्म देते हैं। निदेशक मुताबिक पूर्व में चंद्रयान-एक मिशन के दौरान की पानी के संकेत मिले थे। मगर पानी की अधिक उपलब्धता का अनुमान नहीं था।

यह भी पढ़ें 👉  आप ने उत्तराखंड में जारी की प्रत्याशियों की पांचवी लिस्ट, कांग्रेस की बागी नेत्री को भी दिया टिकट

यह भी पढ़ें: नैनीताल जिले में Extra marital अफेयर का मामला,दोनों ने खाया जहर

यह भी पढ़ें: आयुष्मान कार्ड से आसान हुआ जनता का इलाज,हॉस्पिटलों पर है उत्तराखंड स्वास्थ्य प्राधिकरण की नजर

वर्तमान में वहां पानी की उपलब्धता 800 से 1000 पीपीएम (पार्ट्स पर मिलियन) पाई गई है। लगातार विश्लेषण किया जा रहा है। भविष्य में चांद के तमाम रहस्यों पर से पर्दा उठाने की कवायद जारी है। चंद्रयान-तीन मिशन के अगले साल लान्च होने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें 👉  वंदना कटारिया ने टोक्यो ओलंपिक में बढ़ाया था भारत का मान...अब देवभूमि की बेटी को मिलेगा पद्मश्री सम्मान

अध्ययन में विज्ञानी ममता चौहान, प्रभाकर वर्मा, सुप्रया शर्मा, सताद्रु भट्टाचार्य, आदित्य कुमार डागर, अमिताभ, अभिषेक एन पाटिल, अजय कुमार पराशर, अंकुश कुमार, नीलेश देसाई, रितु करिधल व एएस किरन कुमार।

यह भी पढ़ें: युवक तीन पत्ती में हारा 25 हजार रुपए, हल्द्वानी पुलिस को दी झूठी लूट की सूचना

यह भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश से हरिद्वार आ रही बस दुर्घटनाग्रस्त, चट्टान के नीचे दबे यात्री

To Top