Dehradun News

उत्तराखंड से सनसनीखेज़ मामला, नाबालिग लड़की ने दूसरे प्रेमी के साथ मिलकर पहले प्रेमी को मार डाला


Ad
Ad

ऋषिकेश: एक प्रेमिका ने अपने पहले प्रेमी को दूसरे प्रेमी के साथ मिलकर मौत के घाट उतार दिया। दरअसल नाबालिग प्रेमिका को अपने प्रेमी के पड़ोसी से प्यार हो गया। जब पहले प्रेमी ने इसका पता लगने पर गलत बातें फैलाना शुरू किया तो नाबालिग ने दूसरे प्रेमी के साथ मिलकर पहले प्रेमी की हत्या कर दी। शव को जंगल में दफनाने के बाद दोनों असम चले गए। जब वापिस आए तो किशोरी ने अपनी बहन को बता दिया। डर के मारे बहन ने पुलिस के आगे सब उगल दिया और शव बरामद होने के बाद दोनों प्रेमी प्रेमिका गिरफ्तार कर लिए गए।

Ad
Ad

रायपुर थानाध्यक्ष अमरजीत सिंह रावत ने जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बीती 17 मार्च को चिड़ोवली निवासी एक महिला ने पुलिस में अपनी नाबालि बहन की गुमशुदगी दर्ज कराई। पुलिस ने जांच की तो पता चला कि करनपुर निवासी आकाश भी उसी दिन से फरार है। ये भी मालूम हुआ कि दोनों का प्रेम प्रसंग भी है। पुलिस जांच में जुटी तो रिपोर्ट कराने वाली बहन ने खुद चौकी पहुंचकर बहन के लौटने की सूचना दे दी। पुलिस को एक युवक की हत्या की जानकारी मिली तो महिला ने इस बारे में भी सब पोल खोल दी।

पुलिस ने किशोरी से पूछताछ की तो उसने बताया कि 16 मार्च की रात को उसने और आकाश ने करनपुर निवासी नरेंद्र उर्फ बंटी का गला घोंटकर उसको मार दिया था। बाद में शव तपोवन रोड स्थित आमवाला, ननूरखेड़ा के पास जंगल में दफना दिया। बता दें कि डालनवाला कोतवाली में 16 मार्च को नरेंद्र की गुमशुदगी भी दर्ज हुई थी। महाराणा प्रताप चौक के पास पंक्चर बनाने का काम करने वाले आकाश ने बताया कि उसके पिता छह महीने से लापता हैं। आकाश को पता था कि उसका पड़ोसी नरेंद्र और किशोरी कई सालों से प्रेम में थे।

इधर आकाश ने फेसबुक से किशोरी से दोस्ती की तो दोनों में गहरे संबंध बनने लगे। बाद में किशोरी का नरेंद्र के बजाय आकाश के साथ बातें करना शुरू हो गया। नरेंद्र को इसका पता लगा तो उसने दोनों के बारे में दुष्प्रचार शुरू कर दिया। दोनों ने नरेंद्र को समझाया मगर वह नहीं माना। ऐसे में किशोरी ने 16 मार्च को नरेंद्र को अपने घर बुलाया। नरेंद्र वहां आया तो आकाश भी वहीं छिपा हुआ था। किशोरी की बहन नाइट ड्यूटी पर गई हुई थी। नरेंद्र शराब पीकर आया था। जब वह सो गया तो आकाश ने बेल्ट से नरेंद्र का गला घोट दिया।

इस दौरान किशोरी ने नरेंद्र के हाथ पकड़ रखे थे। बाद में दोनों ने नरेंद्र के शव को बोरी में बंद कर और उसपर कंबल लपेट लिया। सुबह आकाश अपनी बहन के घर से स्कूटी लेकर आया और शव को तपोवन रोड स्थित आमवाला ननूरखेड़ा के निकट जंगल में ले गया। वहां गाड़ी में रखे पाने से गड्ढा खोदा और शव को उसमें दफना दिया। आकाश और किशोरी बस से हरिद्वार पहुंचने के बाद दिल्ली गए और वहां से असम चले गए। अब पुलिस ने शव बरामद कर दोनों को गिरफ्तार कर लिया है।

Join-WhatsApp-Group
Ad
Ad
Ad
To Top