Nainital-Haldwani News

सतर्क रहें, नैनीताल में तीन महीने बाद बना माइक्रो कंटेनमेंट जोन


सतर्क रहें, नैनीताल में तीन महीने बाद बना माइक्रो कंटेनमेंट जोन
Ad
Ad
Ad
Ad

नैनीताल: कोरोना की दूसरी लहर (Corona second wave) ने लोगों की रूह को कंपा दिया था। जब दूसरी लहर खत्म हुई तो लोगों ने राहत की सांस ली। मगर अब एक बार फिर कोरोना संक्रमण (Corona virus) की दस्तक ने भय का माहौल बना दिया है। हल्द्वानी कोविड अस्पताल में भर्ती एक बुजुर्ग की मौत के बाद नैनीताल शेरवुड क्षेत्र को माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है। बता दें जिले में तीन महीने बाद ऐसे हालात बने हैं।

दरअसल नैनीताल के शेरवुड क्षेत्र (Sherwood area resident) निवासी 70 वर्षीय एक मरीज को 15 दिन पहले कोरोना हुआ था। दूसरे राज्य से लौटने पर उनमें संक्रमण की पुष्टि हुई (Found corona positive) थी। संक्रमित बुजुर्ग को हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में बने जनरल बीसी जोशी कोविड अस्पताल (BC Joshi Covid Hospital Haldwani) में भर्ती कराया गया था। अब मरीज की मौत (70 year old man died of corona) होने से हड़कंप मच गया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में कोरोना बढ़ रहा है, देहरादून पहले और नैनीताल दूसरे नंबर पर रहा... बुलेटिन देखें

जानकारी के अनुसार बुजुर्ग को अन्य शारीरिक दिक्कतें भी थीं। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. अरुण जोशी (Dr Arun Joshi Medical College) ने जानकारी दी और बताया कि मरीज को गंभीर स्थिति में 15 नवंबर को भर्ती कराया गया। निमोनिया, सांस संबंधी और गुर्दे की परेशानी की वजह से हालत गंभीर होने के कारण उन्हें वेंटिलेटर (ventilator) पर रखा था।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में 7 अगस्त तक बारिश अलर्ट, नदी-नालों के पास नहीं जाए

अब इस क्षेत्र को माइक्रो कंटेनमेंट जोन (Micro containment zone) बना दिया गया है। बता दें कि मृतक की पत्नी शेरवुड में शिक्षिका हैं, इसलिए क्षेत्र में पाबंदी लगाई जा रही हैं। एसडीएम प्रतीक जैन ने बताया कि मंगलवार को इस क्षेत्र में मेडिकल टीम (medical team) कैंप लगाएगी और सैंपल लिए जाएंगे। सिटी मजिस्ट्रेट ऋचा सिंह ने बताया कि आखिरी बार 29 अगस्त को मेडिकल कॉलेज में माइक्रो कंटेंटमेंट जोन बनाया था। गौरतलब है कि कोरोना के संभावित खतरे को देखते हुए एक बार फिर प्रशासन अलर्ट मोड में आ गया है।

Join-WhatsApp-Group
To Top