Nainital-Haldwani News

हिम्मत को सलाम,पति को खोने के बाद भी जंगल को बचाने निकली नैनीताल की तुलसी देवी


नैनीताल: महिलाएं वाकई हिम्मत की मिसाल होती हैं। हर फ्रंट पर आगे आने रहने वाली पहाड़ की महिलाएं शारीरिक परिश्रम में भी किसी से पीछे नहीं हैं। नैनीताल की तुलसी देवी इसका एक जीता जागता उदाहरण हैं। जंगल की आग बुझाते समय गई पति की जान के बाद भी तुलसी देवी ने वनाग्नि जैसी समस्या से मुंह नहीं फेरा बल्कि वह आज भी अपना शत प्रतिशत योगदान दे रही हैं। अब विभाग ने 15 अगस्त के मौके पर उन्हें सम्मानित और विभाग में नियमित करने की तैयारी कर ली है।

उत्तराखंड के जंगल जल रहे हैं। कम बर्फबारी और कम बारिश होने के कारण पहले ही इन घटनाओं का अंदाजा लगाया गया था। मगर फिर भी वन विभाग वनाग्नि के कांडों से जूझ रहा है। पेड़ पौधे खाक हो रहे हैं। जानवरों के आशियाने उजड़ रहे हैं। विभाग के कर्मचारी और दैनिक श्रमिक पूरी मेहनत से इस कहर को रोकने में जुटे हुए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  वैन में होगी खून की जांच, हल्द्वानी की जनता को जल्द मिल सकती है नई सेवा

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में फैसला, देहरादून में 7 घंटे का नाइट कर्फ्यू, 30 अप्रैल तक स्कूल रहेंगे बंद…

यह भी पढ़ें: देहरादून में फिर सामने आए सर्वाधिक कोरोना केस,रुद्रपुर में एक मरीज की मौत

इसी श्रंखला में एक नाम कूंण पटवाडांगर निवासी 47 वर्षीय दैनिक श्रमिक तुलसी देवी का है। तुलसी देवी ने अपने पति भूपाल सिंह को 6 जून 2012 को खोया था। वन विभाग में दैनिक श्रमिक रहे भूपाल सिंह की मौत का कारण जंगल में लगी आग रही थी। पति की मौत के बाद तुलसी को रेंज में ही दैनिक श्रमिक के रूप में नियुक्ति मिली।

नैनीताल जिले में हल्द्वानी रोड पर स्थित बल्दियाखान, पटवाडांगर क्षेत्र के जंगलों में बुधवार व गुरुवार को भयंकर आग लगी गई थी। जिसे बुझाने के लिए मनोरा रेंज के वन क्षेत्राधिकारी भूपाल सिंह मेहता बाकी कर्मचारियों के साथ मौके पर पहुंचे। फिर जब एपीसीसीएफ डा. जोशी भी वहां आए तो एक नज़ारा देख कर हैरान रह गए। दैनिक श्रमिक तुलसी देवी आधी रात को जंगल की आग बुझाने में लगी हुई थी।

यह भी पढ़ें 👉  सावधान रहिए, नैनीताल समेत पांच जिलों में फिर है बारिश का अलर्ट

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:कोरोना संक्रमित मृतकों को अपने पैतृक स्थान ले जा सकेंगे परिजन

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी में ठेकेदारों का सिंचाई विभाग के खिलाफ धरना,मांग पूरी ना होने पर दी चेतावनी

डॉ. जोशी तुलसी देवी कै हौसले, प्रतिबद्धता और मेहनत को देखकर इतने अभिभूत रह गए कि उन्होंने मौके पर ही तुलसी को नियमित करने के आदेश अधिकारियों को दे दिए। साथ ही उन्होंने तुलसी देवी के जज्बे की सराहना करते हुए उसे स्वतंत्रता दिवस पर सम्मानित करने की संस्तुति कर दी है। 

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी से पिथौरागढ़ के लिए रोडवेज बस सेवा शुरू,पहले से कम हो गई है दूरी

रेंजर भूपाल सिंह मेहता ने जानकारी दी। उन्होंने बताया कि दैनिक श्रमिक तुलसी के नियमितीकरण की पत्रावली तैयार की जाने लगी है। करीब एक हफ्ते के अंदर उसको स्थायी करने की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। इधर, डा. जोशी ने बताया कि ऐसे कर्मचारियों को निश्चित तौर पर सम्मान मिलना चाहिए। वह निजी रूप से भी उसे इनाम देंगे। बता दें कि पांचवीं पास तुलसी का एक बेटा व दो विवाहित व एक अविवाहित बेटी हैं।

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी में 12 लोग निकले कोरोना संक्रमित,बनाए गए पांच नए कंटेनमेंट जोन,यहां देखें लिस्ट

यह भी पढ़ें: हरिद्वार जिले के सभी स्कूल 15 अप्रैल तक रहेंगे बंद, DM ने जारी किया आदेश

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad - Vendy Sr. Sec. School
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top