Nainital-Haldwani News

कैंची धाम मेले की तैयारी हुई तेज, श्रद्धालुओं के लिए हेलीकॉप्टर है तैयार


Kainchi dham fair: Helicopter Service: उत्तराखंड का कैंची धाम मंदिर विश्व प्रसिद्ध है। प्रतिदिन लाखों की संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु यहां बाबा के दर्शन के लिए आते हैं। पिछले कुछ वर्षों से भारत के विख्यात लोग भी नीम करौली बाबा के दर्शन करने के लिए यहां पहुंच रहे हैं। ये बाबा की शक्ति ही है कि बहुत दूर-दूर से लोग मंदिर में दर्शन के लिए पहुंच रहै हैं। बाबा का आशीर्वाद के लिए विदेश से भी बड़ी-बड़ी हस्तियां कैंची धाम पहुंच रही हैं। 15 जून को कैंची धाम में होने वाले मेले की तैयारी जोरों से चल रहीं है। कैंची धााम मेले से जुड़ी एक और अच्छी खबर सामने आ रही है। 15 जून को मेले में लाखों की संख्या में श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं। मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की कोई परेशानी न हो, इसे लेकर प्रशासन श्रद्धालुओं के लिए हेलीकॉप्टर सेवा शुरू करने जा रहा है। ( Helicopter service in kainchi dham )

तबीयत बिगड़ने पर हेली सेवा का होगा प्रयोग

बता दें कि यदि किसी अगर श्रद्धालु की तबीयत बिगड़ती है तो पहले स्थानीय स्तर पर प्राथमिक उपचार होगा। उसके बाद हायर सेंटर ले जाने के लिए हेलीकॉप्टर का प्रयोग किया जाएगा। इसके लिए नागरिक उड्डयन विभाग से हेली सेवा मांगी गई है। साथ ही पूरे मेला क्षेत्र की ड्रोन और सीसीटीवी से निगरानी की जाएगी। सोमवार को नैनीताल क्लब में कुमाऊं आयुक्त दीपक रावत ने अधिकारियों की बैठक ली। और उन्होंने कहा कि हेली सेवा का प्रयोग केवल गंभीर स्थिति में ही किया जाएगा। वहीं भवाली और गरमपानी से शटल सेवा के लिए करीब 100 से अधिक बसों व 500 छोटे वाहनों की व्यवस्था की गई है। भवाली की पार्किंग फुल होने की स्थिति पर भीमताल, हल्द्वानी से शटल सेवा चलेगी। ( Helicopter service used for patients )

ये चीजें रहेंगी प्रतिबंधित

बैठक में कोश्यां-कुटौली के एसडीएम बिपिन पंत ने बताया कि मंदिर परिसर के आसपास हार्न बजाने, प्लास्टिक का प्रयोग धूम्रपान, तम्बाकू, इंटरनेट मीडिया, फोटोग्राफी-वीडियोग्राफी, रील बनाने, कैंची धाम से भवाली के मध्य फड़ खोखा संचालन, कैंची धाम से भवाली के मध्य मार्ग किनारे विभिन्न संगठनों-आमजन की ओर से खाद्य एवं पेय पदार्थों का वितरण पर पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेगा। ( Smoking, making reels , Videography banned in kainchi dham during Fair )

To Top