National News

अलविदा अरविंद त्रिवेदी, दशहरे के कुछ दिनों पहले हमारे फेवरेट ‘रावण’ का निधन


अलविदा अरविंद त्रिवेदी, दशहरे के कुछ दिनों पहले हमारे फेवरेट 'रावण' का निधन
Ad
Ad

नई दिल्ली: दशहरे के करीब डेढ़ हफ्ते पहले एक बुरी खबर आई है। देश के कोने कोने में प्रसिद्ध रामायण सीरियल के रावण यानी अरविंद त्रिवेदी का हार्ट अटैक से निधन हो गया है। अरविंद त्रिवेदी ने 82 साल की उम्र में मंगलवार की रात मुंबई में अंतिम सांस ली। सोशल मीडिया पर अरविंद त्रिवेदी के तमाम फैन्स उन्हें नम आंखों से याद कर रहे हैं।

Ad
Ad

गौरतलब है कि रामानंद सागर के हिट सीरियल रामायण के हर किरदार को ढेर सारा प्यार मिला। पिछले साल कोरोना के कारण लॉकडाउन लगा तो नई पीढ़ी के युवाओं तक ने सीरियल को बड़े मन से देखा। छोटे पर्दे पर रावण का रोल निभा रहे अरविंद त्रिवेदी ने हर किसी के जेहन में अपनी प्रतिभा के बल पर एक अलग छाप छोड़ी थी।

ये कहना गलत नहीं होगा कि रावण को याद करने पर आंखें खुद ब खुद अरविंद त्रिवेदी का चेहरा गढ़ने लग जाती हैं। ये अरविंद त्रिवेदी की एक्टिंग के जौहर के बल पर ही संभव हो पाया है। मगर अब ये महान शख्सियत दुनिया को अलविदा कहकर जा चुकी है। अरविंद त्रिवेदी का हार्ट अटैक के कारण निधन हो गया है। उनके भतीजे कौस्तुभ त्रिवेदी ने इसकी पुष्टि की है।

कौस्तुभ के मुताबिक अरविंद त्रिवेदी पिछले कुछ दिनों से बीमार थे। उनकी तबीयत ठीक नहीं थी, ऐसे में आज उन्हें हार्ट अटैक आया। इसके बाद उनके शरीर के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया। उन्होंने बताया कि अरविंद त्रिवेदी का अंतिम संस्कार बुधवार सुबह किया जाएगा। बता दें कि पहले कई बार अरविंद त्रिवेदी के निधन की अफवाहें उड़ी थी।

साल 2019 में मई के महीने में अरविंद त्रिवेदी के निधन की अफवाह आग की तरह फैल गई थी। तब उनके भतीजे कौस्तुभ त्रिवेदी ने ट्विटर पर उसका खंडन किया था और फेक न्यूज न फैलाने की अपील की थी। इसके बाद एक बार फिर अफवाहें फैली तो ‘रामायण’ में लक्ष्मण का किरदार निभाने वाले सुनील लहरी अफवाहों का खंडन किया था।

मूल रूप से मध्य प्रदेश के निवासी अरविंद त्रिवेदी ने अपने करियर की शुरुआत फिल्म ‘पराया धन’ से की थी। इसके बाद कुछ हिंदी फिल्मों में काम करने के अलावा उन्होंने कई गुजराती फिल्मों में काम किया। करीब 300 फिल्मों में काम कर चुके अरविंद त्रिवेदी को एक अलग पहचान ‘रामायण’ के रावण किरदार निभाने के बाद मिली।

हालांकि उन्होंने रामायण के अलावा टीवी शो ‘विक्रम और बेताल’ में भी अहम रोल प्ले किया था। गुजराती सिनेमा में अहम योगदान के लिए उन्हें कई अवॉर्ड मिले और गुजरात सरकार ने भी सम्मानित किया। एक्टिंग में सभी का दिल जीतने वाले अरविंद त्रिवेदी ने साल 1991 में गुजरात के साबरकांठा लोकसभा सीट से बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ा था। जिसमें उन्हें जीत मिली और वह संसद पहुंचे। सफर बहुत अच्छा रहा मगर अब इस सफर पर विराम लग गया है। अरविंद त्रिवेदी हमारे बीच नहीं रहे। पूरा देश आपको नमन करता है।

Join-WhatsApp-Group
Ad
Ad
Ad
To Top