Uttarakhand News

उत्तराखंड में अटल उत्कृष्ट स्कूलों के नतीजों ने किया निराश, एक स्कूल में कोई पास नहीं हुआ

देहरादून: सीबीएसई ने शुक्रवार को नतीजे जारी किए। उत्तराखंड में 155 अटल उत्कृष्ट स्कूलों ने सीबीएसई परीक्षा में प्रतिभा किया था लेकिन नतीजे बुरे सपने की तरह रहें। इन स्कूलों का रिजल्ट 50 प्रतिशत रहा। हरिद्वार के सिकरोड़ा स्कूल में 12वीं परीक्षा फल शून्य रहा। यहां परीक्षा देने बैठे सभी 27 बच्चे फेल हो गए। वहीं दसवीं में 36 बैठे, 16 पास हो गये। जीआईसी खटीमा में 12वीं कक्षा के 162 बच्चों में से केवल 14 बच्चे पास हुए। रिजल्ट 8.64 प्रतिशत रहा। चम्पावत के बाराकोट स्कूल में 7 बच्चों में से दो ही पास हुए। चौमेल चम्पावत के 12वीं के 49 बच्चों में से महज 15 पास हुए। चोरामेहता स्कूल के 12वीं में 67 बच्चों में से महज 25 बच्चे पास हुए।

अल्मोड़ा के जीआईसी दन्या में दसवीं के 37 में से केवल 7 बच्चे पास हुए। दीनापानी स्कूल के 55 बच्चों में से 18 बच्चे पास हुए। बागेश्वर जीआईसी स्याकोटे में 10वीं के 46 बच्चों से 3 पास हुए। देहरादून के जीआईसी सेलाकुई स्कूल के 309 बच्चों में से 77 ही पास हुए। जीआईसी सरुला सरोली में 38 में से सात बच्चे ही पास हुए। वहीं कुछ स्कूलों के नतीजे शत प्रतिश भी रहा।

चमोली के उर्गम स्कूल का दसवीं और 12वीं का रिजल्ट 100 प्रतिशत रहा। पौड़ी के खिरडीखाल और बुंगालगढ़ी का रिजल्ट भी 100 प्रतिशत रहा। सिद्धखाल पौड़ी का रिजल्ट भी 95 प्रतिशत रहा। सरकारी स्कूलों के नतीजों ने सभी को हैरान कर दिया है। शिक्षा विभाग को इस ओर प्रयोग करने के बजाए सख्त एक्शन लेने की जरूरत है। अगर शिक्षा व्यवस्था मजबूत नहीं हुई तो उत्तराखंड पलायन के रोग से कभी पार नहीं पा पाएंगा।

To Top
Ad