National News

पिता ने ऑटो चलाकर और दूध बेचकर बेटे को पढ़ाया, सचिन को मिली NDA में कामयाबी

नई दिल्ली: एनडीए नतीजों में देश के कई युवाओं को सफलता मिली। उनमे से एक हैं देवघर के सचिन, जिनकी चर्चा हर जगह हो रही है। जानकारी के मुताबिक सचिन के पिता एक ऑटो चालक हैं। घर बड़ी मुश्किल से चलता है। ऐसे में घर में ही एक खटाल खोला और दूध बेचकर अपने बच्चों के सपने पूरे करने में पूरी जिंदगी लगा दी। 

सचिन ने कड़ी मेहनत से पूरे देवघर का नाम रोशन किया है। सचिन एनडीए परीक्षा में कामयाबी पाई है। उन्हें ट्रेनिंग के लिए जॉइनिंग लेटर भी आ चुका है। इस उपलब्धि से उसके पूरे परिवार में काफी खुशी का माहौल है।

सचिन बचपन से ही भारतीय सेना का हिस्सा बनना चाहते थे। इसलिए सचिन ने डिफेंस का रास्ता चुना और एनडीए क्वालीफाई कर सैंकड़ो युवाओं को प्रेरित करने का काम किया है।

देवघर के रहने वाले ऑटो चालक संजय दूबे के पुत्र सचिन दूबे ने देवघर शहर और झारखंड का नाम राष्ट्रीय स्तर पर गौरवान्वित किया है। सचिन दूबे का चयन एनडीए (नेशनल डिफेंस एकेडमी) के 150 वें बैच में हुआ है।

SSB इंटरव्यू और लिखित परीक्षा के परिणाम के आधार पर देशभर से कुल 538 अभ्यर्थियों का चयन किया गया है। इनमें सचिन दूबे ने अखिल भारतीय स्तर पर 338 वां रैंक हासिल किया है। सचिन ने बताया कि कभी भी हिम्मत नहीं हारनी चाहिए, मेहनत करने वालों को सफलता मिलती ही है।

To Top