Almora News

अल्मोड़ा निवासी शुभम को मिली SSC परीक्षा में सफलता,खाकी वर्दी पहनने का सपना हुआ पूरा


Almora Success Story: Shubham Arya Almora: CISF Sub-Inspector Selection:

देश की सेवा के लिए उत्तराखंड का हर निवासी अग्रिम पंक्ति पर तत्पर रहता है। फ़ौज, पुलिस, बीएसएफ, आईटीबीपी या फिर सीआईएसएफ उत्तराखंड के युवा ऐसे सभी अवसरों के आने का इंतज़ार मात्र करते हैं। जब यह अवसर उन्हें मिलते हैं, तो उनका अभ्यास और जज़्बा उन्हें लक्ष्य तक पहुंचा ही देता है। जितना ज़रूरी यह जज़्बा है उतना ही ज़रूरी है परिवार का धैर्य और विश्वास। आज हम आपको जिला अल्मोड़ा के निवासी शुभम आर्य की सफलता के बारे में बताएंगे जिन्होंने कर्मचारी चयन आयोग (SSC) की परीक्षा उत्तीर्ण कर ली है। शुभम का चयन केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) में सब इंस्पेक्टर के पद पर हो गया है।

बता दें कि मूल रूप से राज्य के अल्मोड़ा जिले के लमगड़ा तहसील क्षेत्र के ग्राम बुघाड़ निवासी शुभम आर्या के पिता मोहन राम, उत्तराखंड पुलिस में असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर के पद से सेवानिवृत्त हैं। अपने जीवन के शुरूआती समय से ही वर्दी से लगाव रखने वाले शुभम ने भी अपने पिता से प्रेरणा लेकर आज अपने लिए भी वर्दी कमा ली है। देशसेवा से सम्बन्ध रखने के साथ शुभम का स्कूल और कॉलेज में भी पढ़ाई में अच्छा प्रदर्शन रहा है। शुभम ने वर्ष 2021 में सोबन सिंह जीना परिसर अल्मोड़ा से प्रथम श्रेणी में BSC की डिग्री प्राप्त की थी। उसके बाद उन्होंने अपना सारा समय अपनी तैयारियों और अभ्यास में समर्पित कर दिया।

शुभम के पिता मोहन राम भी अपने बेटे को मिली सफलता से खुश हैं। अपने पूरे सेवाकाल में कई चुनौतियों के बाद वो सहायक उप निरीक्षक के पद पर पहुंचकर सेवानिवृत्त हो गए थे। वहीं शुभम ने अपने नए जीवन का आरम्भ ही CISF में उप निरीक्षक के पद पर हुई नियुक्ति से किया है। कहते हैं ना कि पूरी दुनिया में एक व्यक्ति तो ज़रूर होता है जो आपकी उन्नति पर आपसे ज़्यादा गर्व और ख़ुशी महसूस करता है, वह व्यक्ति और कोई नहीं बल्कि पिता ही है। शुभम के पिता भी इस अवसर पर खुश तो हैं ही साथ में अपने बेटे के जीवन में ऐसी अनेकों सफलताओं के मिलने की भी ईश्वर से प्रार्थना कर रहे हैं। देवों के आशीर्वाद से मिली सुख-सुविधाओं का सदुपयोग कर अल्मोड़ा के बेटे द्वारा देशसेवा को चुनना हर प्रयत्नशील और सही मार्ग पर चल रहे युवाओं के साथ पूरे उत्तराखंड के लिए गर्व की बात है।

To Top