Uttarakhand News

अब उत्तराखंड में आसानी से पकड़ी जाएगी बिजली चोरी, निगम को मिला स्मार्ट फॉर्मूला


Ad
Ad

देहरादून: एक तीर से दो निशाने साधने की फिराक में उत्तराखंड के ऊर्जा निगम ने अच्छा प्लान तैयार किया है। एक ऐसा प्लान बनाया गया है जिससे बिजली चोरी पर तो लगाम लगेगी ही लगेगी, इसके साथ ही बिजली उपभोक्ताओं को भी काफी सहूलियत मिल सकेगी। दरअसल सर्वप्रथम उत्तराखंड के दो जिलों (ऊधमसिंह नगर व हरिद्वार) में स्मार्ट बिजली मीटर लगाने की कवायद शुरू कर दी गई है। प्रस्ताव तैयार होने के बाद इसपर जल्द से जल्द काम शुरू किया जाएगा, ऐसी बातें सामने आ रही हैं।

Ad
Ad

बिजली चोरी के मामले रोकने में ऊर्जा निगम की सांस फूल जाती है। निगम की टीमें एक्टिव रहती हैं मगर फिर भी बिजली चोरी रुकने का नाम नहीं ले रही है। इसके साथ ही बिजली उपभोक्ताओं को भी खपत से लेकर बिल तक काफी शिकायतें रहती हैं। इसलिए अब ऊर्जा निगम स्मार्ट होते हुए स्मार्ट मीटर लगाने के बारे में सोच रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इसके लिए हरिद्वार व ऊधमसिंह नगर जिले में अबतक 80 हजार घरों को सेलेक्ट भी कर लिया गया है। हो ना हो, स्मार्ट मीटर समय की जरूरत है।

स्मार्ट मीटर के बारे में जानिए

स्मार्ट मीटर वो मीटर होता है जिसके जरिए उपभोक्ताओं को बिजली बिल, बिजली खर्च, आदि सभी जानकारी आसानी से मिल जाती हैं। स्मार्ट मीटर पर एक डिस्प्ले लगी होती है, जिसके माध्यम से सारी जानकारी मिलती है। खास बात ये भी है कि घर में बिजली का लोड अधिक या अधिकतम होने पर स्मार्ट मीटर अलार्म भी देता है। ये अलार्म लोड कम करने व रिचार्ज करने का होता है। हालांकि बिजली खर्च कम होने पर किसी तरह का अलार्म नहीं बोलेगा। और तो और ये स्मार्ट मीटर गड़बड़ी भी नहीं करेगा।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी नगर निगम का अभियान शुरू, प्लास्टिक इस्तेमाल पर लगेगा भारी जुर्माना, नियम जानें

साथ ही स्मार्ट मीटर के कारण ऊर्जा निगम भी हर घर में बिजली की स्थिति (खपत, गड़बड़ी आदि) पर नजर रख सकेगा। बता दें कि उपभोक्ता स्मार्ट मीटर लगने से प्रीपेड, पोस्टपेड और सोलर बिजली की सप्लाई की बिलिंग भी कर सकेंगे। जिससे काफी हद तक लोगों को लाभ मिलेगा। ध्यान रहे कि स्मार्ट मीटर को रिचार्ज कराने के बाद ऊर्जा निगम का किसी भी प्रकार का बकाया नहीं रहेगा। स्मार्ट मीटर के लगने के बाद आप बिजली की बचत तो करेंगे ही, साथ ही बिजली का इस्तेमाल अपने मनमाफिक कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें 👉  टेस्ट क्रिकेट में देवभूमि के ऋषभ पंत का कारनामा, अब सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ दिया

इस बारे में ऊर्जा निगम के प्रबंध निदेशक अनिल कुमार का मानना भी स्पष्ट है। उनका कहना है कि बिजली चोरी को रोकने के प्रयासों में स्मार्ट मीटर का पैंतरा एक बड़ा कदम साबित होगा। साथ ही इसके बाद उपभोक्ताओं को मन मुताबिक बिजली प्रयोग करने की आजादी भी मिलेगी। उन्होंने कहा कि ऊर्जा निगम की ओर से प्रदेश में स्मार्ट मीटर लगाने की योजना पर लगकर काम किया जा रहा है। उम्मीद है कि स्मार्ट मीटर के साथ साथ उपभोक्ताओं के अच्छे दिन आएं और साथ में बिजली चोरी करने वालों की हिम्मत भी दम तोड़ दे।

Join-WhatsApp-Group
Ad
Ad
Ad
To Top