Almora News

उत्तराखंड निवासी बहनों की जोड़ी, जूनियर बैडमिंटन इंटरनेशनल सीरीज में जीता पदक


Uttarakhand Sports News: खेल के मैदान पर उत्तराखंड के युवा लगातार शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं। कोई भी टूर्नामेंट हो, राज्य के युवाओं का नाम सामने आ ही जाता है। उत्तराखंड, खेल और अल्मोड़ा का एक अलग ही कनेक्शन है। अल्मोड़ा ने देश को नयाब खिलाड़ी दिए हैं। इस लिस्ट में क्रिकेटर एकता बिष्ट और बैडमिंटन स्टार लक्ष्य सेन का भी नाम शामिल है। एक बार फिर अल्मोड़ा खेल के वजह से सुर्खियों में हैं। कोटेक इंडिया जूनियर इंटरनेशनल सीरीज में अल्मोड़ा की मनसा और गायत्री रावत ने शानदार प्रदर्शन किया और पदक जीतने में कामयाब रही हैं।

उत्तरांचल राज्य बैडमिंटन संघ के सचिव बी.एस मनकोटी ने जानकारी दी कि कोटेक इंडिया जूनियर इंटरनेशनल सीरीज में अल्मोड़ा की मनसा और गायत्री रावत ने कांस्य पदक जीता है। प्रतियोगिता का आयोजन 22 से 27 अगस्त तक हैदराबाद में किया गया था। युगल मुकाबले के थ्री क्वार्टर फाइनल में मनसा एवं गायत्री रावत ने वेनेला कालगोटिया और श्रीयांशी की जोड़ी को 23-21, 11-21, 24-22 से मात दी।

इसके बाद दोनों ने क्वार्टर फाइनल में तारिणी सूरी और श्रावणी वालेकर को 20-22, 21-27 और 21-11 से हराया। सेमीफाइनल में मनसा और गायत्री को थाइलैंड की जोड़ी यातवीन केटलिंग और पास ऑर्न फनाचेत की जोड़ी ने हराया। भारतीय खिलाड़ी भले ही गोल्ड जीतने से चूक गए हो लेकिन अपने पहले प्रयास में कांस्य पदक जीतकर उन्होंने अपनी प्रतिभा का परिचय बड़े मंच पर दिया। इससे पहले बता दें कि दोनों सगी बहनों ने पिछले महीने बेंगलुरू में हुई ऑल इंडिया जूनियर चैंपियनशिप में महिला युगल में स्वर्ण पदक हासिल किया। मनसा और गायत्री रावत प्रकाश पादुकोण एकेडमी में कोच डी.के सेन और लोकेश नेगी से ट्रेनिंग हासिल कर रही हैं। बेटियों की कामयाबी ने अल्मोड़ा शहर को एक बार फिर खुश होने का मौका दिया है। दोनों बहनों को अल्मोड़ा के लोग लक्ष्य सेन और चिराग सेन की तरह देख रहे हैं, जैसे दोनों भाइयों ने बैडमिंटन कोर्ट में अपनी पहचान बनाई वैसा ही कुछ

इसके बाद दोनों ने क्वार्टर फाइनल में तारिणी सूरी और श्रावणी वालेकर को 20-22, 21-27 और 21-11 से हराया। सेमीफाइनल में मनसा और गायत्री को थाइलैंड की जोड़ी यातवीन केटलिंग और पास ऑर्न फनाचेत की जोड़ी ने हराया। भारतीय खिलाड़ी भले ही गोल्ड जीतने से चूक गए हो लेकिन अपने पहले प्रयास में कांस्य पदक जीतकर उन्होंने अपनी प्रतिभा का परिचय बड़े मंच पर दिया।

बता दें कि इससे पहले दोनों ने पिछले महीने बेंगलुरू में हुई ऑल इंडिया जूनियर चैंपियनशिप में महिला युगल में स्वर्ण पदक हासिल किया। मनसा और गायत्री रावत प्रकाश पादुकोण एकेडमी में कोच डी.के सेन और लोकेश नेगी से ट्रेनिंग हासिल कर रही हैं। बेटियों की कामयाबी ने अल्मोड़ा शहर को एक बार फिर खुश होने का मौका दिया है। दोनों बहनों को अल्मोड़ा के लोग लक्ष्य सेन और चिराग सेन की तरह देख रहे हैं, जैसे दोनों भाइयों ने बैडमिंटन कोर्ट में अपनी पहचान बनाई वैसा ही कुछ मनसा और गायत्री भी करेंगी।

To Top