Uttarakhand News

उत्तराखंड में उत्तरायणी और मकरैणी मेले में भी जयश्रीराम, इस बार कुछ अलग होगा

Uttarakhand Ram Mandir Pran Pratishtha Celebration: राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम की चर्चा भारत के साथ पूरे विश्व में हो रही है। जहाँ कई राष्ट्रीय हिन्दू संगठन पूरे उत्साह के साथ भगवान राम के स्वागत की तैयारी में लगे हुए हैं। वहीं भाजपा का कहना है कि मंदिर निर्माण का निर्णय ऐतिहासिक निर्णय है जिसके लिए हज़ारों राम भक्तों ने अपने प्राणों से मंदिर की नीव रखी है। और 22 जनवरी 2024 को होने वाला प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम इस सदी का सबसे बड़ा कार्यक्रम है।

भगवान राम के प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव का रंग हर जन पर चढ़ता नज़र आ रहा है। इसी के साथ मुख्यमंत्री धामी ने भी इस कार्यक्रम से सम्बंधित बड़े निर्देश उत्तराखंड के लिए भी दे दिए हैं। जहाँ उनका कहना है कि प्रदेश भर में होने वाले उत्तरायणी और मकरैणी के कार्यक्रम भगवान राम के प्राण प्रतिष्ठा की थीम पर मनाए जाएं। राम लला के विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा के समारोह की जोरदार तैयारियां उत्तराखंड में भी देखने को मिल रही हैं। और उत्तरायणी और मकरैणी पर होने वाले धार्मिक व सांस्कृतिक कार्यक्रम अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम की थीम पर होंगे।

प्रधानमंत्री मोदी के देशवासियों से किए निवेदन के बाद अब मुख्यमंत्री धामी भी प्रदेशवासियों से निवेदन कर चुके हैं। मुख्यमंत्री धामी ने प्रदेशवासियों से प्राण प्रतिष्ठा समारोह पर घरों में दीपोत्सव के साथ कलश यात्रा, आरती, राम कथा और घाटों की साफ-सफाई का अभियान चलाने का निवेदन किया है। इस अवसर पर बागेश्वर में लगने वाला भव्य मेले और डाडामंडी, थलनदी व सांगुड़ा में गिंदी कौथिग (गेंद का मेला) राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा की थीम पर मनाए जाने का अंदेशा लगाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री धामी ने इस अवसर पर प्रदेशभर में कलश यात्राओं का आयोजन करने और प्रमुख नदियों के घाटों की साफ-सफाई का अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। इसके अतिरिक्त विद्यालयों में राम के आदर्शों पर निबंध एवं चित्रकला प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा।

To Top
Ad