Pauri News

उत्तराखंड के पहाड़ी फल से बनेगी Wine, किसानों के लिए होगा करोड़ों का निवेश


देहरादून: “बेड़ू पाको बारामासा” गीत तो आपने सुना ही होगा। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यही बेड़ू अब किसानों की आर्थिकी सुधारने में बड़ा रोल निभाने वाला है। किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के क्रम में बेड़ू बड़ी भूमिका निभाने जा रहा है। दरअसल पौड़ी प्रशासन ने बेड़ू की खेती और इसके विक्रय के लिए एक कंपनी के साथ नए एमओयू पर साइन किया है। कंपनी द्वारा बेड़ू से उच्च स्तरीय वाइन तैयार की जाएगी।

गौरतलब है कि बेड़ू को पहाड़ी अंजीर भी कहा जाता है। बेड़ू की खासियत ही यही है कि यह औषधीय गुणों से भरपूर होता है। जिला प्रशासन ने इसे लेकर योजना बनाई, जिसके तहत किसानों को मुफ्त में बेड़ू के पौधे वितरित किए जाएंगे। पलायन पर चोट करने के सिलसिले में भी ये योजना मील का पत्थर साबित हो सकती है। बता दें कि एमओयू के हिसाब से 300 कुंतल से अधिक बेड़ू का विक्रय करने का प्लान है।

जिस कंपनी के साथ एमओयू साइन हुआ है, वो कंपनी रूरल इंटरप्राइजेज एक्सेलेरेशन प्रोजेक्ट और फूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में काम करती है। इस निजी कंपनी ने पौड़ी जनपद में बेड़ू की खेती को बढ़ावा देने के प्लान में प्रशासन से हाथ मिलाया है। डीएम डॉ. आशीष चौहान ने कृषि उद्यान और ग्रामीण विकास अफसरों के साथ वार्ता के बाद साइन कर दिया है। बताया जा रहा है कि अब बहुत ही शीघ्र कंपनी द्वारा कोटद्वार में प्रोसेसिंग प्लांट स्थापित किया जाएगा।

प्लांट में एक हजार किसानों और महिला समूहों के माध्यम से बेड़ू को एकत्र किया जाना है। कंपनी ने स्थानीय किसानों से बेड़ू की खेती करा कर उन्हीं से बेड़ू खरीदने का ढांचा तैयार किया है। चार करोड़ के निवेश की बात सामने आई है। बता दें कि हिमालयन वाइल्ड फिग के नाम से प्रसिद्ध बेड़ू के पेड़ 1550 मीटर की ऊंचाई पर मिलता है। ज्ञात हो कि बेड़ू से जैम, जेली और शरबत आदि बनाए जाते हैं। अगर ये योजना सफल रहती है तो किसानों को बहुत लाभ मिलेगा।

To Top