Uttarakhand News

चारधाम यात्रा शुरू करने को लेकर प्रेशर में उत्तराखंड सरकार,SC से वापिस ली याचिका

चारधाम यात्रा शुरू करने को लेकर प्रेशर में उत्तराखंड सरकार,SC से वापिस ली याचिका

देहरादून: चारधाम यात्रा को लेकर जहां हर तरफ असमंजस की स्थिति है वहीं राज्य सरकार पर दबाव बढ़ता जा रहा है। इसी क्रम में यात्रा को जल्द अनुमति दिलवाने के लिए सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से विशेष अनुमति याचिका वापिस ले ली है। सरकार चाहती है कि हाईकोर्ट में ही यात्रा शुरू करने की अनुमति मिले।

गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण के कारण चारधाम यात्रा पर सस्पेंस बरकरार है। मामला सुप्रीम कोर्ट तक जा पहुंचा था। कोर्ट यात्रियों की जान से खिलवाड़ नहीं करना चाहता जबकि सरकार को यात्रा बंद होने के कारण परेशान होना पड़ रहा है। सरकार पर लगातार विपक्षी दलों से लेकर तमाम व्यापारियों का भी दबाव है। व्यापारियों से लेकर तीर्थ पुरोहितों में भारी नाराजगी है।

कांग्रेस नेता हरीश रावत ने हाल ही में कहा था कि उत्तराखंड में सब खुल गया बस एक चारधाम यात्रा को छोड़कर। मगर अब प्रदेश सरकार अनुमति लेने के लिए कदम तेज कर रही है। इसी क्रम में सरकार ने एससी में दायर विशेष अनुमति याचिका (एसएलपी) वापस ले ली है। उत्तराखंड सरकार की एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड (एओआर) वंशजा शुक्ला ने एसएलपी वापस लिए जाने की पुष्टि की।

गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस सीटी रविशंकर की कोर्ट में उत्तराखंड सरकार बनाम सचिदानंदन डबराल व अन्य मामले में सुनवाई के दौरान सरकार की तरफ से वंशजा शुक्ला ने विशेष अनुमति याचिका वापस लेने की अनुमति मांगी। न्यायालय ने एसएलपी वापस लेने की परमिशन दी और साथ ही मामला भी खारिज हो गया।

यह भी पढ़ें 👉  पोस्ट ऑफिस में बंपर नौकरियां, आवेदन की तिथि बढ़ाई गई

दरअसल सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई में देरी हो रही थी। जिससे यात्रा शुरू होने में और देर हो जाती। सरकार चाहती है कि हाईकोर्ट में ही चारधाम यात्रा संचालित करने का फैसला हो। उत्तराखंड सरकार के महाधिवक्ता एसएन बाबुलकर ने बताया कि राज्य सरकार उच्च न्यायालय में विचाराधीन मामले में पैरवी करेगी।  

यह भी पढ़ें 👉  राहुल द्रविड़ ने बढ़ाया अंडर-19 टीम का उत्साह, मार्च में करेंगे उत्तराखंड का दौरा

बता दें कि बुधवार को पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने उक्त मामले के संकेत दिए थे। उन्होंने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट में निर्णय आने में देर लग रही है। सुप्रीम कोर्ट से एसएलपी वापस लेने की बात कही थी। गौरतलब है कि चुनाव आने वाले हैं और सरकार इस वक्त किसी को भी नाराज नहीं करना चाहती। इसलिए सरकार अब न्यायालय में नए सिरे से यात्रा शुरू करने के पक्ष में अपने तर्क रखना चाहती है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में हेली सेवा का किराया 42 से 50 प्रतिशत कम हुआ

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज का कहना था कि चारधाम यात्रा की सभी तैयारियां कोविड प्रोटोकॉल के अनुरूप पूरी कर ली गई हैं। एसएलपी वापस लेने के बाद अब सरकार हाईकोर्ट में मजबूत पैरवी करेगी। हमें उम्मीद है कि हाईकोर्ट का फैसला जनभावनाओं के अनुरूप होगा।

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम उत्तराखंड का तेजी से बढ़ता हुआ न्यूज पोर्टल है। पोर्टल पर देवभूमि से जुड़ी तमाम बड़ी गतिविधियां हम आपके साथ साझा करते हैं। हल्द्वानी लाइव की टीम राज्य के युवाओं से काफी प्रोत्साहित रहती है और उनकी कामयाबी लोगों के सामने लाने की कोशिश करती है। अपनी इसी सोच के चलते पोर्टल ने अपनी खास जगह देवभूमि के पाठकों के बीच बनाई है।

© 2021 Haldwani Live Media House

To Top