Uttarakhand News

नए साल पर कुमाऊं आ रहे पर्यटकों का ख्याल रखेगी उत्तराखंड पुलिस…शुरू किया मिशन अतिथि


Ad
Ad
Ad
Ad

नैनीताल: पूरे कुमाऊं में अतिथि देवो भव: कहावत को सच करने के लिए पुलिस महकमा सदैव तत्पर रहता है। आगामी पर्यटन सीजन को देखते हुए इस बार भी उत्तराखंड पुलिस (Uttarakhand police) ने खासकर कुमाऊं के लिए तैयारियां की हैं। कुमाऊं में आने वाले हर पर्यटक का ख्याल उत्तराखंड पुलिस रखेगी। मिशन अतिथि के मुताबिक पुलिस सैलानियों को अपराधिक वारदातों से बचाएगी। होटल और टैक्सी संचालकों की मनमानी वसूली पर शिकंजा कसेगी।

उत्तराखंड पुलिस ने कुमाऊं में आने वाले पर्यटकों की देखभाल करने के लिए मिशन अतिथि शुरू किया है। इसकी शुरुआत बीते दिन यानी शुक्रवार से हो गई है। गौरतलब है कि क्रिसमस और नए साल को देखते हुए कुमाऊं के विभिन्न पर्यटन स्थलों पर सैलानियों की आमद ज्यादा रहती है। हालांकि पिछले साल कोरोना के चक्कर (covid effect last year) में भीड़ कम थी। लेकिन इस बार अन्य राज्यों से आने वाले सैलानियों की अच्छी तादाद में आने की ज्यादा उम्मीदें हैं।

यह भी पढ़ें 👉  बदल रहा है उत्तराखंड, आंगनवाड़ी बहनों को मिला तीलू रौतेली पुरस्कार

इन पर्यटकों को कोई भी दिक्कत ना हो, इसके लिए उत्तराखंड पुलिस पूरी तैयारियां कर रही है। डीआईजी नीलेश आनंद भरणे (DIG Dr. Nilesh Anand Bharne) ने सभी पुलिस अधीक्षकों को होटल रेस्टोरेंट संचालकों, ऑटो रिक्शा-टैक्सी यूनियन पदाधिकारियों के साथ बैठक की है। जिसमें उन्होंने पर्यटकों के साथ अच्छा व्यवहार करने का आग्रह किया है। डीआईजी भरणे ने टैक्सी स्टैंड पर रेट लिस्ट चस्पा करने का निर्देश दिया है। जिससे विवाद की कोई स्थिति उत्पन्न ना हो।

यह भी पढ़ें 👉  रक्षाबंधन पर मालामाल हुआ उत्तराखंड रोडवेज, हुई करोड़ों की कमाई

डीआईजी नीलेश आनंद भरणे ने पर्यटन सीजन शुरू होने से पहले प्रीपेड टैक्सी बूथ स्थापित करने का भी निर्देश दिया। जिसका संचालन ऑटो टैक्सी यूनियन को करना होगा। डीआईजी ने बताया कि पर्यटन पुलिस, पुलिस चौकियों, चीता मोबाइल (Cheetah mobile) के माध्यम से तमाम पर्यटन स्थलों का रूट मैप व हेल्पलाइन नंबर की जानकारी दी जाएगी। दूरस्थ इलाकों के साथ ही मुख्य मार्गों पर भी पुलिस हेल्पलाइन के बोर्ड का विजिटिंग कार्ड लगवाए जाएंगे।

यह भी पढ़ें 👉  पेपर लीक मामले के बाद उत्तराखंड शासन ने UKSSSC के सचिव को पद से हटाया

कुमाऊं डीआईजी डॉ भरणे (Kumaun DIG) ने बताया कि पर्यटकों को किसी भी तरह की दिक्कत ना हो, इसके लिए दुकानदारों का सहयोग लिया जाएगा। इनकी मदद से पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम स्थापित किया जाएगा। साथ ही एनसीसी, एनएसएस की मदद भी ली जाएगी। उन्हें बकायदा फोटोयुक्त पहचान पत्र जारी किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि केएमवीएन की मदद से 60 पर्यटक पुलिस जवानों को 2 दिन की ट्रेनिंग दी जाएगी। जो कि 18-19 दिसंबर को नैनीताल पुलिस लाइन में होगी।

Join-WhatsApp-Group
To Top