Uttarakhand News

उत्तराखंड में फेस्टिवल सीजन शुरू, रोडवेज का यात्रियों के लिए फैसला लेकिन सिर दर्द जारी रहेगा

ऐसे में यात्रियों को होगी परेशानी, उत्तराखंड रोडवेज में चालक-परिचालकों की भयंकर कमी
Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

देहरादून: त्योहार के सीजन को देखते हुए परिवहन निगम ( UTTARAKHAND ROADWAYS) ने अधिकारी और कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द करने का फैसला किया है। इसके साथ ही उनके ऊपर वर्क लोड भी बढ़ जाएगा क्योंकि सभी डिपो को अतिरिक्त बसें संचालित करने के भी निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही चालक बाईपास से बसें लेकर नहीं जा सकते हैं।

त्योहार का सीजन शुरू हो गया है लेकिन उत्तराखंड रोडवेज ( UTTARAKHAND ROADWAYS BUSES TO DELHI) की बसों की एंट्री दिल्ली में बंद हो जाएगी। दिल्ली सरकार ने आदेश जारी किया है कि राजधानी में केवल BS6 बसों को ही एंट्री मिलेगी।  उत्तराखंड रोडवेज ( UTTARAKHAND ROADWAYS bS6 BUSES) के बाद बीएस-4 गाड़िया है और एंट्री नहीं मिलने से 230 से ज्यादा बसे प्रभावित होगी। ऐसे में यात्रियों का सिर दर्द बढ़ने वाला है। अगर दिल्ली बस नहीं जाती है तो उत्तराखंड रोडवेज बसे उत्तर प्रदेश बॉर्डर पर यात्रियों को ड्रॉप करेगी।

दिल्ली सरकार ने तीन महीने पहले उत्तराखंड रोडवेज को पत्र भेजकर एक अक्तूबर से सिर्फ बीएस-6 मानक की बसें दिल्ली भेजने को कहा था, लेकिन रोडवेज बसों का इंतजाम नहीं कर पाया। जो बसें दिल्ली तक चल रही हैं, वह बीएस-4 मानक की हैं। कोडवेज के महाप्रबंधक संचालक दीपक जैन दिल्ली सरकार ने एक अक्तूबर से बीएस-4 बसें नहीं भेजने के लिए सुझाव पत्र भेजा था।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में सड़क हादसों ने बढ़ाई टेंशन, केवल 2022 में हजार से ज्यादा मौत

इस पर अभी अंतिम फैसला नहीं हुआ है, इसलिए जो बसें दिल्ली जा रही हैं, वह जाती रहेंगी। हमारे पास 17 सीएनजी बसें हैं। नये टेंडर में जो 40 बसें मिलनी है लेकिन अभी तक नहीं मिली हैं।  रोडवेज ने दिल्ली रूट पर 141 सीएनजी बसें चलाने के लिए ई-टेंडर जारी किए। बताया जा रहा है कि करीब 15 लोगों ने दिल्ली रूट पर सीएनजी बस चलाने के लिए टेंडर जमा किए हैं।

To Top