Dehradun News

उत्तराखंड: बिना फार्मासिस्ट के चल रहे मेडिकल स्टोरों पर नजर, पुलिस की छापेमारी शुरू

हल्द्वानी: कालाबाजारी में जेल पहुंचा मेडिकल स्टोर का मालिक,रोक के बाद भी चल रही दवाइयों की खरीद-बिक्री

देहरादून: राज्य में बड़े पैमाने पर मेडिकल स्टोर बिना फार्मासिस्ट के चल रहे है। अकेले राजधानी में ही यह संख्या बहुत बड़ी है। पुलिस द्वारा की गई छानबीन में स्पष्ट हो गया कि बड़े पैमाने पर बिना फार्मासिस्ट के मेडिकल स्टोर चलाए जा रहे हैं। राजधानी देहरादून में पुलिस द्वारा छापेमारी कर बिना फार्मासिस्ट चल रहे 60 मेडिकल स्टोरों को बंद कराया। एसएसपी अजय सिंह के आदेश पर पूरे जिले में 427 मेडिकल स्टोरों की जांच-पड़ताल की गई। पुलिस ने स्टोर संचालकों को नशा सामग्री न बेचने का आदेश दिया है।

दरअसल, एसएसपी को जिले में मेडिकल स्टोरों द्वारा युवाओं को नशीली दवाएं बेचे जाने की खबर मिली थी। इससे पुलिस ने शनिवार को चेकिंग अभियान चलाया। इस दौरान कई स्टोरों से वैध लाइसेंस और डिग्री तलब की। एसएसपी ने बताया चेकिंग में कई स्टोरों में अनियमिताएं पाई गई। 60 स्टोर ऐसे पाए गए है, जो बिना डिग्री और संचालक के चल रहे थे। इन स्टोरों पर ताले लगा दिए गए। ये सूचना ड्रग कंट्रोलर को भेजी गई। उन्होंने बताया कि नशे के विरुध पुसिल सख्त कदम लेगी। ऐसे मेडिकल संचालक जो नियमों का पालन नही कर रहे, उन्होंने बिना डॉक्टर की सलाह लिए किसी भी नाबालिग युवाओं को कोई भी दवाइयां उपलब्ध कराना सख्त मान है।

उधर पुलिस ने अचानक कार्रवाई से मेडिकल स्टोर के विरुध अभियान चलाया। पुलिस ने सभी स्टोर संचालकों के वैध लाइसेंस और फार्मासिस्ट की डिग्री जांची। स्टोर संचालकों को नशीली दवा न बेचने की सख्त हिदायत दी गई है। जो स्टोरों में अनियमितता पाई गई है, पुलिस की ओर से इनकी रिपोर्ट बनाई गई है। एसएसपी ने बताया कि स्टोरों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई को विभाग को पत्र भेजा जाएगा। ड्रग कंट्रोलर को रिपोर्ट भेजी जा रही है।

यह भी पढ़ें 👉  वनडे फाइनल में उत्तराखंड ने दिखाया कमाल का खेल, ट्रॉफी 16 रनों से दूर रह गई
To Top
Ad