Ad
Dehradun News

उत्तराखंड के विश्व प्रसिद्ध लक्ष्मण झूला पुल का तार टूटा, पूरी तरह रोकी गई आवाजाही

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

ऋषिकेश: योगा कैपिटल के नाम से विश्व में प्रसिद्ध ऋषिकेश पर्यटकों के लिए हमेशा से आकर्षण का केंद्र रहता है। यहां पर तपोवन, त्रिवेणी घाट, राम झूला और लक्ष्मण झूला मुख्य पर्यटन केंद्रों में गिने जाते हैं। लेकिन टिहरी और पौड़ी को जोड़ने वाले लक्ष्मण झूला पुल की एक तार रविवार को अचानक टूट गई। जिससे पुल पर होने वाली आवाजाही पूरी तरीके से प्रतिबंधित कर दी गई है।

बता दें कि फिलहाल वक्त तक पुल पर सिर्फ पैदल चलने वालों को अनुमति थी। चूंकि लक्ष्मण झूला की उम्र पूरी हो चुकी है। इसलिए शासन की तरफ से 13 जुलाई 2019 को ही झूला पुल को बंद कर दिया गया था। सिर्फ स्थानीय नागरिकों की परेशानी को देखते हुए यहां पैदल चलने के लिए छूट दी गई थी ।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड के लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान बने देश के दूसरे CDS, बीस साल की उम्र में हुए थे भर्ती

बता दें कि पुल के निर्माण के लिए चंडीगढ़ की कंपनी को काम दिया गया था। हालांकि इस निर्माण का टेंडर ही विवादित हो गया था। स्थानीय नागरिक बताते हैं कि पुल के निर्माण के काम पुराने पुल के ठीक बाजू में हो रहा है। जिसमें कई बड़ी-बड़ी मशीनें लगी है। इसमें से एक 600 किलो वजन की बकेट से टकराकर पुल का संतुलन बनाने वाली तार रविवार को अचानक टूट गई।

यह भी पढ़ें 👉  बीसीसीआई के टूर्नामेंट में चमकी उत्तराखंड की बेटियां, विरोधी टीम को 27 रनों पर ऑल आउट कर दिया

इसी वजह से पुल का संतुलन बिगड़ गया। आनन-फानन में मुनी की रेती पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। प्रभारी निरीक्षक रितेश शाह पूरे दल बल के साथ मौके पर आए। उन्होंने खतरे को देखते हुए आवाजाही पर तुरंत रोक लगा दी। बता दें कि इस पुल के बंद होने से लक्ष्मण झूला और तपोवन के बीच पैदल मार्ग का संपर्क कट गया है।

Join-WhatsApp-Group
To Top