Pithoragarh News

बीते दस सालों में उत्तराखंड को पहली बार, पिथौरागढ़ के अजय ओली को मिला राष्ट्रीय युवा पुरस्कार


बीते दस सालों में उत्तराखंड को पहली बार, पिथौरागढ़ के अजय ओली को मिला राष्ट्रीय युवा पुरस्कार

नई दिल्ली: लीक से हटकर काम करने का जज्बा चुनिंदा लोगों के अंदर ही होता है। यही चुनिंदा लोग समाज को बदलने का माद्दा रखते हैं। बाल श्रम व बाल भिक्षा को लेकर सालों से काम कर रहे टाना गांव के अजय ओली ऐसे ही चुनिंदा लोगों में से एक हैं। इन्हीं प्रयासों के चलते अब अजय को राष्ट्रीय युवा पुरस्कार से नवाजा गया है।

Ad

अंतर्राष्ट्रीय युवा दिवस के मौके पर विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में देश भर के 22 लोगों को राष्ट्रीय युवा पुरस्कार से सम्मानित किया। इस अवसर पर खेल मंत्री अनुराग ठाकुर मौजूद रहे। बता दें कि इसी दौरान पिथौरागढ़ जिले के घनश्याम ओली चाइल्ड वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष अजय ओली को भी अवार्ड से सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: एक फोटो ने तोड़ दी युवती की शादी, पुलिस ने एक को किया गिरफ्तार

यह भी पढ़ें 👉  आप ने उत्तराखंड में जारी की प्रत्याशियों की पांचवी लिस्ट, कांग्रेस की बागी नेत्री को भी दिया टिकट

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड सरकार को आढ़े हाथों लेने आए कांग्रेस विधायक ने प्रेस वार्ता में सुना दी रामकथा

पिथौरागढ़ जिले के टाना गांव निवासी अजय ओली को राष्ट्रीय युवा पुरस्कार उनके द्वारा बालश्रम व बाल भिक्षा को खत्म कर बच्चों को शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए दिया गया। मंत्री अनुराग ठाकुर ने अजय ओली द्वारा किए जा रहे प्रयासों को खूब सराहा। उन्होंने कहा कि बालश्रम व बाल भिक्षा को खत्म कर बच्चों को शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ने का ये कार्य एक मिसाल है।

अजय ओली उन बच्चों के हक की लड़ाई लड़ते हैं जिन्हें गरीब तबके के लेबल के नीचे दबकर भीख मांगने व बाल श्रम करने पर मजबूर होना पड़ता है। अजय ने अबतक नंगे पांव 98000 किमी से भी अधिक की पदयात्रा इन्हीं बच्चों की आवाज को बुलंद करने के लिए की है। साथ ही 109 शहरों में 13 हजार से ज्यादा जागरूकता कार्यक्रम भी कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें 👉  वंदना कटारिया ने टोक्यो ओलंपिक में बढ़ाया था भारत का मान...अब देवभूमि की बेटी को मिलेगा पद्मश्री सम्मान

यह भी पढ़ें: उन्मुक्त चंद ने 28 साल की उम्र में भारतीय क्रिकेट से लिया संन्यास

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड विधानसभा सत्र 23 अगस्त से शुरू,इन विधायकों को प्रवेश मिलना होगा मुश्किल

इसके लिए अजय का नाम लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज किया जा चुका है। बता दें कि होटल मैनेजमेंट में स्नातक, होटल मैनेजमेंट में मास्टर्स, हॉस्पिटैलिटी में मास्टर्स और ह्यूमन रिसोर्स में मास्टर्स करने के बाद अजय ने कई सालों तक व्यापार किया मगर समाज सेवा का भाव कभी दिल नहीं भूल पाया।

यही कारण रहा कि अजय ने सब छोड़ कर बाल श्रम पर रिसर्च करना शुरू किया। जिसके बाद पिछले सालों में उन्होंने बालश्रम व भिक्षावृत्ति के खिलाफ राष्ट्रीय स्तर पर जागरूकता अभियान चलाए। बता दें कि देवभूमि निवासी को ये सम्मान पिछले दस सालों में पहली बार मिला है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी से भाजपा के जोगिंदर रौतेला ने भरा नामांकन, बोले मैं एक खुली किताब हूं...

अजय ओली ने इस सम्मान को समाज को समर्पित किया और साथ ही हुए युवाओं को इसका सारा श्रेय दिया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि भारत एक युवा देश है। युवाओं को आगे आकर, सक्रिय होकर समाज सेवाओं से जुड़कर देश का निर्माण करना होगा।

यह भी पढ़ें: नैनीताल: बाहर जाकर जन्मदिन मनाने की जिद ने ले ली दो दोस्तों की जान

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी के इन इलाकों से दूर होगी जलभराव की समस्या, कैबिनेट मंत्री भगत ने 20 दिन का समय दिया

To Top