Dehradun News

उत्तराखंड में तीसरी संतान होने पर छिन गई नगर पालिका सभासद की कुर्सी


उत्तराखंड में तीसरी संतान होने पर छिन गई नगर पालिका सभासद की कुर्सी

देहरादून: लक्सर इलाके के एक जनप्रतिनिधि की कुर्सी केवल इसलिए छिन गई क्योंकि उसके तीसरी संतान हो गई। नियमों के अनुसार प्रदेश में स्थानीय निकाय और ग्राम पंचायत के जन प्रतिनिधियों के लिए अधिकतम दो संतान की शर्त लागू है।

दरअसल दो जुलाई 2002 से लागू उक्त शासनादेश के तहत ही शहरी विकास विभाग ने लक्सर नगर पालिका से वार्ड नंबर चार की सभासद नीता पांचाल को इसी आधार पर हटा दिया है। 2018 में सभासद चुनी गई नीता पांचाल ने तीसरी संतान को जन्म दिया।

यह भी पढ़ें 👉  शिक्षा विभाग ने अगले आदेश तक उत्तराखंड में बंद किए सभी स्कूल,कोरोना का खतरा बढ़ रहा है

पहले शासनादेश पर एक नजर डालते हैं। दरअसल 19 साल पहले जारी हुए सरकारी गजट की शर्तों के मुताबिक 21 सितंबर 2003 के बाद से दो बच्चों से अधिक जीवित संतान होने पर कोई भी प्रत्याशी चुनाव नहीं लड़ सकता। ये फॉर्मूला जनसंख्या नियंत्रण कानून की ओर भी एक इशारा करता है।

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री धामी का एक और बड़ा फैसला, सुरक्षा को देखते हुए कांवड़ यात्रा स्थगित

यह भी पढ़ें: कांग्रेस प्रवक्ता दीपक बल्यूटिया ने सरकार से पूछा, अभी से क्यों नहीं कर देते बिजली फ्री

यह भी पढ़ें 👉  एक बार फिर चर्चा में हरक सिंह रावत...बोले मुझे BJP कोर ग्रुप बैठक में नहीं बुलाया

अब यहां लक्सर में वार्ड चार की सभासद नीता पांचाल ने चुनावों के बाद तीसरी संतान को जन्म दिया। इसलिए उनके खिलाफ निर्वाचन की शर्त का उल्लंघन की शिकायत जिलाधिकारी हरिद्वार सी रविशंकर के पास पहुंची। जिसके बाद एसडीएम लक्सर और नगर पालिका ईओ के द्वारा जांच की गई।

जांच के उपरांत शिकायत सही पाए जाने पर शहरी विकास विभाग ने डीएम हरिद्वार की रिपोर्ट के आधार पर नीता पांचाल की सदस्यता समाप्त की। इस संबंध में सचिव शहरी विकास शैलेश बगौली ने मंगलवार को आदेश जारी किए। नीता पांचाल लगातार दूसरी बार भाजपा के टिकट पर पार्षद निर्वाचित हुई हैं।

यह भी पढ़ें 👉  दुर्गा एनक्लेव कॉलोनी में सनसनी, मकान मालिक ने किरायेदार को मारी गोली, हुई मौत

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड पर्यटन विभाग में होगी 126 पदों पर भर्ती, तुरंत जानें

यह भी पढ़ें: नैनीताल: दिव्यांगजनों के लिए 19 जुलाई से लगेंगे स्पेशल टीकाकरण शिविर, देखें लिस्ट

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: ट्रेनों में महिलाओं की मदद के लिए हर पल मौजूद हैं आपकी ‘सहेली’

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी बद्रीपुरा में 12 सालों से खंडहर हो रहे सिपाहियों के फ्लैट अब जाकर सुधरेंगे

To Top