Champawat News

चंपावत के यशवंत को टेस्ला ने दिया 30 लाख डॉलर का सालाना पैकेज, जर्मनी में होगी तैनाती

Ad
Ad
Ad
Ad

चम्पावत: उत्तराखंड के युवाओं के जौहर की कहानी हम रोजाना आप लोगों के बीच लेकर आते हैं। हमारी कोशिश रहती है कि युवाओं की परिश्रम की कहानियों से पीढ़ी प्रेरित होए। चंपावत के यशवंत चौधरी ( yashwant Choudhary champawat) की नौकरी विश्व विख्यात टेस्ला कंपनी में लगी है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार 24 साल के यशवंत का चयन जर्मनी की टेस्ला गीगा कंपनी में वरिष्ठ प्रबंधक के तौर पर हुआ। उन्होंने सालाना 23 करोड़ रुपए का वेतन मिलेगा। वह बर्लिन जर्मनी में अपनी सेवा देंगे। फिलहाल वह ऑनलाइन रूप से काम करेंगे। इसके बाद अगस्त से अक्टूबर तक बेंगलुरु में ट्रेनिंग के लिए जुड़ेंगे और फिर जर्मनी के लिए रवाना होंगे।

यशवंत ( yashwant Choudhary tesla) ने पिथौरागढ़ से बीटेक किया और साल 2020 में गेट में 870वीं रैंक हासिल की थी। दो साल पहले उनका चयन ट्रेनी प्रबंधक के रूप में हुआ था। कोरोना की वजह से वह ऑनलाइन सेवाएं दे रहे थे। यशवंत का सपना एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में काम करने का रहा है, ताकि उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेहतर काम करने का मौका मिले। परिवार के लोग यशवंत की कामयाबी से काफी खुश हैं। उन्हें पूरे उत्तराखंड से बधाई मिल रही है। यशवंत के पिता शेखर चौधरी कारोबारी हैं। हल्द्वानी लाइव की ओर से यशवंत को हार्दिक शुभकामनाएं।

उत्तराखंड के युवा हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहे हैं। खास बात ये हैं कि खेल और शिक्षा के क्षेत्र में उत्तराखंड के बच्चों को लगातार कामयाबी मिल रही है। इसमें कई बच्चे ऐसे भी होते हैं जो पर्वतीय जिलों से आते हैं, जहां संसाधनों की कमी जरूर होती है लेकिन उनके हौसले बुलंद होते हैं। इसी हौसले को सीढ़ी बनाकर वह आगे बढ़ते हैं और कामयाबी हासिल करते हैं।

Join-WhatsApp-Group
Ad
यह भी पढ़ें 👉  चंपावत के स्कूल की घटना ने सबको चौंकाया, एक साथ 39 छात्राओं की अजीब हरकत वायरल
To Top