Uttarakhand News

उत्तराखंड में बादल मेहरबान, नैनीताल और मुनस्यारी में बर्फबारी के साथ हुई महीने की शुरुआत

Uttrakhand weather report:- उत्तराखंड राज्य में चार धाम सहित ऊंचाई वाले कई इलाकों में बुधवार को एक लंबे इंतजार के बाद आखिरकार बर्फबारी नजर आ ही गई है। एक तरफ जहां पहाड़ी राज्य में बर्फबारी देख पर्यटकों और किसानों के चेहरे खिल गए वहीं दूसरी तरफ बारिश और बर्फबारी के कारण लोगों को ठिठुरन का भी सामना करना पड़ रहा है।

गुरुवार सुबह से ही गढ़वाल और कुमाऊं के कई जिलों में बारिश हो रही है। मौसम विज्ञान केंद्र की माने तो राज्य के उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, बागेश्वर और पिथौरागढ़ जिले के कई इलाकों में बर्फबारी का अलर्ट भी जारी कर दिया गया है।

बताते चलें कि कुमाऊं में जसपुर , रुद्रपुर, हल्द्वानी, खटीमा और गढ़वाल में चमोली, पौड़ी सहित कई जिलों में सुबह से ही बारिश का आलम जारी है। ऊंचाई वाले इलाकों में बारिश और बर्फबारी होने से मैदानी इलाकों में अब कोहरे से राहत मिलने के आसार नजर आने लगे हैं। मौसम वैज्ञानिकों का मानना है कि अगर फरवरी के पहले सप्ताह में उत्तर पश्चिमी हवाओं की गतिविधि तेज रही तो ही ठंड का आभास होगा, अन्यथा तापमान में कोई खास कमी देखने को नजर नहीं आएगी। इसके अलावा जिलों के कुछ क्षेत्रों में बिजली चमकने के साथ ओलावृष्टि होने की संभावना भी दर्शाई गई है।

मौसम विभाग के अनुसार मौसम आने वाले कुछ दिनों तक करवट बदलता रहेगा। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार आज जहां कई जगहों पर बारिश हो रही है वहीं कल 2 फरवरी को मौसम साफ नजर आएगा। लेकिन 3 और 4 फरवरी की रात से मौसम फिर करवट लेगा जिस कारण बारिश और बर्फबारी की संभावनाएं और प्रबल हो जाएंगी।

राज्य की ऊंची चोटियों में बसे क्षेत्र जैसे कि मुनस्यारी आदि की बात करें तो, इन क्षेत्रों में मौसम की पहली बर्फबारी का आगाज हो चुका है। वही पहाड़ी इलाकों पर बर्फबारी और बारिश के कारण तापमान में भारी गिरावट के साथ ठंड और बढ़ गई है। पहाड़ों की रानी मसूरी में भी ओलों की बौछार के बाद मौसम का मिजाज बदल गया है। ओलावृष्टि से मसूरी पर सफेद चादर जैसी पसर गई है। वहीं उत्तराखंड में झीलों का शहर कहे जाने वाले नैनीताल में भी बृहस्पतिवार की सुबह से ही हल्की बर्फबारी देखने को मिली। हालांकि शहर से पहाड़ी की एक ओर ही हल्की बर्फ दिखाई दे रही है, लेकिन नैनापीक में बर्फबारी साफ देखी जा सकती है।

मौसम विभाग का मानना है कि फरवरी के पहले सप्ताह में भी कई बार बारिश और बर्फबारी होने की संभावना है। विशेषज्ञों का कहना है कि इस से तापमान पर कुछ ज्यादा असर नहीं पड़ेगा, लेकिन पहाड़ से लेकर मैदान तक लोगों को सूखी ठंड से राहत जरूर मिलेगी। साथ ही 2500 से 3000 मीटर की अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में एक से डेढ़ फीट तक की बर्फबारी होने की संभावनाएं जताई गई है।

To Top
Ad