Ad
Uttarakhand News

क्या उत्तराखंड में अब बनेंगे नए जिले ? मुख्यमंत्री धामी ने दिया बड़ा बयान

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

देहरादून: राज्य में लंबे समय से चली आ रही नए जिले बनाने की मांग पर अब एक बार फिर मामला गर्म हो गया है। इस बार खुद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने टिप्पणी की है। मुख्यमंत्री धामी (CM Pushkar Singh Dhami) ने एक बार फिर नए जिले बनाने की मांग पर विचार करने को कहा है।

सीएम ने नई जिलों की मांग पर कहा कि लंबे समय से इसकी मांग की जा रही है। सरकार आने वाले समय में इस पर विचार करने की योजना बना रही है। जिसके लिए सभी जनप्रतिनिधियों से बात कर कहां-कहां पुनर्गठन होने की संभावना और कहां-कहां नए जिले की आवश्यकता पर चर्चा की जाएगी।

यह भी पढ़ें 👉  भारी बारिश के साथ उत्तराखंड से विदा होगा मानसून, दो दिन के लिए अलर्ट जारी

अब से दो दशक पहले यूपी के पहाड़ी हिस्सों को अलग कर बनाए गए उत्तराखंड में फिलहाल 13 जिले हैं। नए जिले बनाने का मामला उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 में भी उठा था। मगर चुनाव खत्म होते ही ये मामला फिर से दब गया। ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि यह मामला ठंडे बस्ते में चला गया हो।

साल 2011 में तत्कालीन मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने 4 जिले (कोटद्वार, यमुनोत्री, रानीखेत, डीडीहाट) बनाए जाने की घोषणा की थी। मगर उनके पद से हटते ही यह मामला ठंडा पड़ गया। इसके बाद साल 2016 में तत्कालीन मुख्यमंत्री हरीश रावत ने 8 नए जिलों (डीडीहाट, रानीखेत, रामनगर, काशीपुर, कोटद्वार, यमुनोत्री, रुड़की, ऋषिकेश) बनाने का वादा किया।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: अस्पतालों में रजिस्ट्रेशन एवं टोकन व्यवस्था होगी शुरू, पूरे प्रदेश में होगा एक शुल्क

हरीश रावत का दांव भी सिर्फ सियासी दांव साबित हुआ। उसी साल कांग्रेस में भयंकर उठा पठक हुई थी। जिस वजह से मामला दब गया। बता दें कि उस दौरान चार नए जिले बनाए जाते तो राज्य पर करीब 600 से 800 करोड़ तक का अतिरिक्त भार पड़ने की जानकारी सामने आई थी। अब देखना होगा कि सीएम धामी नए जिलों की मांग को कितनी गंभीरता से लेते हैं।

Join-WhatsApp-Group
To Top