Ad
Uttarakhand News

मुख्यमंत्री धामी ने प्रदेश में नया सिस्टम बनाने की बात कही, क्या कोई कानून ला सकती है सरकार

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

देहरादून: उत्तराखंड में परीक्षाओं में गड़बड़ी के सामने आने के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जांच के आदेश दे दिए हैं। साल 2015 पुलिस दरोगा भर्ती की जांच भी विलिजेंस को दे दी गई है। इससे पहले सीएम के निर्देश में UKSSSC और ऑनलाइन वन दरोगा भर्ती की जांच कराने के लिए भी पुलिस महानिदेशक को निर्देशित किया गया है। डीजीपी द्वारा उक्त प्रकरण की जांच एसटीएफ को सौंपी गई।

मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि राज्य सरकार ज़ीरो टॉलरन्स ऑन करप्शन की नीति से कोई समझौता न करने पर दृढ़ संकल्पित है। प्रदेश के ईमानदार और परिश्रमी युवाओं के साथ हमारी सरकार अन्याय नहीं होने देगी। उन्होंने कहा कि युवाओं का कल सुनहरा हो, इसके लिए आज कड़े फैसले लेने होंगे। राज्य के सभी नौजवानों और नागरिकों को मुख्यमंत्री ने आश्वस्त किया है राज्य सरकार उनकी आशाओं और अपेक्षाओं के अनुसार इन सभी मामलों में कड़ी कार्रवाई करेगी। किसी भी मेहनतकश युवा के साथ अन्याय नहीं होने दिया जायेगा और कोई भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  लंपी से लड़ाई में सबसे आगे उत्तराखंड, रिकॉर्ड टीकाकरण कर पेश किया उदाहरण

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह हमारे राज्य के लिये बहुत ही गंभीर विषय है तथा हमारे प्रदेश के सभी नौजवानों के रोजगार से जुड़ा मामला है। अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की भर्तियों में जहां भी गड़बड़ी की शिकायत प्राप्त हो रही है वहां हमने सख्त जांच के आदेश दे दिये हैं। सभी मामलों पर कार्यवाही चल रही है जिसका परिणाम आप सभी के सामने आ भी रहा है। उन्होंने कहा कि भर्ती घोटालों में किसी को भी नही बख्शा जायेगा, चाहे किसी के हाथ कितने भी लम्बे क्यों न हो कानून द्वारा अपना काम किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम इससे आगे के लिये भी एक नजीर बनाना चाहते हैं जिससे ऐसी घटनाओं की पुनरावृति न हो क्योंकि हमें अपने बेटे-बेटियों के आज और कल की चिंता है, उनके वर्तमान एवं भविष्य का सवाल है। हमें प्रदेश में भर्ती प्रक्रियाओं का ऐसा सिस्टम बनाना होगा कि आगे भविष्य में कोई इस तरह का कृत्य करने की सोच भी न सके।

Join-WhatsApp-Group
To Top