Election Talks

हल्द्वानी विधानसभा सीट पर जोगिंदर बनाम सुमित…चुनाव नया मगर टक्कर पुरानी


Ad
Ad

हल्द्वानी: इंतजार बस खत्म होने वाला है। विधानसभा चुनावों का रण अब अंजाम तक पहुंचने वाला है। किस सीट से कौन प्रत्याशी चुनावी मैदान में विजयी पताका फहराएगा, यह कुछ देर में साफ हो जाएगा। हल्द्वानी विधानसभा सीट पर चुनाव दिलचस्प हुए थे। यहां और कुछ तो नहीं मगर बदले का रण जरूर सजा था। इस सीट पर कांग्रेस से सुमित हृदयेश और भाजपा से जोगिंदर रौतेला के बीच जबरदस्त टक्कर का अंदेशा लगाया जा रहा है।

Ad
Ad

गौरतलब है कि जोगिंदर रौतेला बनाम हृदयेश का मुकाबला नया नहीं है। आपने और हमने साल 2017 से यह लड़ाई देखी है। इसमें अब तक मुकाबला बराबरी का रहा है। कांटे की टक्कर में इस बार जोगिंदर पाल सिंह रौतेला और सुमित हृदेश आमने-सामने हैं। बता दें जहां सुमित हृदयेश एक बार जोगिंदर पाल सिंह रौतेला से हार चुके हैं। वहीं जोगिंदर रौतेला को भी एक बार हल्द्वानी की विधायक स्वर्गीय इंदिरा हृदयेश से हार का सामना करना पड़ा है।

साल 2017 के विधानसभा चुनावों में हल्द्वानी सीट से कांग्रेस की तरफ से डॉक्टर इंदिरा हृदयेश ने भाजपा से प्रत्याशी मेयर जोगिंदर पाल सिंह रौतेला को 6557 वोटों के मार्जिन से चुनाव हराया था। हालांकि रौतेला ने साल 2018 में स्वर्गीय इंदिरा हृदयेश के पुत्र सुमित हृदयेश को मेयर के चुनावों में हराकर हिसाब किताब बराबर कर लिया। जी हां, साल 2018 में हल्द्वानी में निकाय चुनाव हुए थे। इन चुनावों में जोगिंदर रौतेला को 10854 वोटों के बड़े मार्जिन से जीत मिली थी।

जोगिंदर रौतेला के सामने जहां 2017 विधानसभा चुनावों में स्वर्गीय डॉक्टर इंदिरा हृदयेश से मिली हार का बदला लेने का मौका है। तो सुमित हृदयेश के पास 2018 के निकाय चुनाव का हिसाब किताब बराबर करने का अवसर है। गौरतलब है कि 14 फरवरी को उत्तराखंड की सभी 70 विधानसभा सीटों पर मतदान हुआ था। देखना दिलचस्प होगा कि जनता द्वारा कुछ हफ्तों पहले ईवीएम में कैद किए गए नतीजे किसके पक्ष में रहते हैं।

Join-WhatsApp-Group
Ad
Ad
Ad
To Top