Election Talks

हरीश रावत ने गौलापार को कहा उत्तराखंड लोकसंस्कृति का मायका,इंदिरा जी के साथ हुई वर्ता का किया जिक्र


Ad
Ad
Ad
Ad

लालकुआं: कांग्रेस प्रत्याशी व पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत अपने प्रचार में जान झोंक रहे हैं। उन्होंने कहा कि लालकुआं विधानसभा को सांस्कृतिक विधानसभा के रूप में तैयार करेंगे जो कुमाऊं की संस्कृति को बयां करेगा। उन्होंने कहा कि गौलापार का क्षेत्र हमारी कुमाऊंनी संस्कृति का मायका है। उन्होंने बिंदुखत्ता को उत्तराखंड के संघर्ष का प्रतीक बताया। उन्होंने इस दौरान स्वर्गीय इंदिरा हृदयेश के साथ हुआ वर्ता का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि मैने उनसे कहा था कि बिंदुखत्ता हमारे संघर्ष का प्रतीक है… मेरा बस चले तो मैं 100 बिंदुखत्ता बसाने की कोशिश करूंगा। उन्होंने कहा कि गौलापार, बिंदुखत्ता और बरेली रोड का क्षेत्र उत्तराखंड की आन बान और शान है। उन्होंने कहा कि यह सभी क्षेत्र हमारी संस्कृति का घर है।

हरीश रावत ने कहा कि लालकुआं विधानसभा का क्षेत्र हमारी लोकसंस्कृति व परंपराओं का मायका है और इसलिए मैं अपने लोगों की सेवा करने के लिए यहां आया हूं। उन्होंने कहा कि लालकुआं विधानसभा का विकास होगा तो हमारी संस्कृति का प्रचार-प्रसार भी होगा। आप मुझे सेवा करने का मौका देंगे तो उत्तराखंडियत की रक्षा करने के लिए कांग्रेस पूरी जान लगा देगी। उन्होंने कहा कि हम किसानों को मालिकाना हक देंगे। इस दौरान उन्होंने भाजपा पर ग्रामीणों के उत्पीडन का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि जो लोग विकास करने की बात उन्होंने नेशनल हाइवे के गड्डे नहीं भरे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार आने पर हम राज्य सरकार का पैसा लगाकर सड़कों की हालत को सुधारेंगे।

Join-WhatsApp-Group
To Top