Pithoragarh News

उत्तराखंड: यहां हुई रिकॉर्ड बर्फबारी, हेलीकॉप्टर से वोट डालने जाएंगे ग्रामीण


Ad
Ad
Ad
Ad

देहरादून: राज्य में 14 फरवरी को चुनाव होने वाले हैं और 10 मार्च को नतीजे सामने आ जाएंगे। पार्टियों ने अपने दावेदारों के नाम पेश करना शुरू कर दिया है लेकिन प्रदेश की दो सबसे बड़ी पार्टियों में अभी तक मंथन चल रहा है, हफ्ते के खत्म होते होते कोई बड़ा अपडेट आ सकता है। चुनावों को सफल बनाने के लिए आयोग पूरी तैयारी कर रहा है। वह ज्यादा से ज्यादा लोगों की भागेदारी उत्तराखंड में चाहता है जो बिल्कुल भी आसान नहीं है। उत्तराखंड एक पर्वतीय राज्य होने के वजह से चुनाव आयोजन के लिए हमेशा से आयोग के लिए अग्निपरीक्षा रही है।

चुनाव में मौसम भी असर डालता है, इस बारे में शायद कम लोग ही सोचते हैं। मुनस्यारी से करीब 54 किमी दूर लास्पा में छह फीट से अधिक हिमपात हुआ है। ऐसे में भारत-चीन सीमा पर बन रही सड़क निर्माण के काम में लगे मजदूर वोट डालने के लिए हेलीकॉप्टर से लाए जाएंगे। भारी बर्फबारी के कारण बॉर्डर रोड आर्गेनाइजेशन (बीआरओ) ने यह फैसला लिया है। बता दें कि इस समय सीमांत पिथौरागढ़ जिले के मुनस्यारी में मिलम-लास्पा में बड़ी संख्या में श्रमिक भारत-चीन सीमा को जोड़ने वाली सड़क के निर्माण कार्य में जुटे हैं। यह क्षेत्र काफी ऊच्चाई पर है। मुनस्यारी से करीब 54 किमी दूर लास्पा में छह फीट से अधिक हिमपात हुआ है। ऐसे में वोटिंग के लिए जाना मजदूरों के लिए नामुमकिन है इसी वजह से प्रशासन ने उनके लिए हेलीकॉप्टर का प्रबंध किया है।

मतदान की तारीख तक भी बर्फ से ढके पैदल मार्गों के खुलने के कोई आसार नहीं हैं। इसलिए स्थानीय मजदूरों को वोट डालने के लिए हेलीकॉप्टर के जरिए निचले इलाकों में लाया जाएगा। अब तक सौ ऐसे लोग चिह्नित किए जा चुके हैं। हेलीकॉप्टर से वोट देने जाने को लेकर जब से मजदूरों को पता चला है वह काफी उत्साहित हैं।

Join-WhatsApp-Group
To Top