Sports News

उत्तराखंड के लिए इस साल मैदान पर उतरते ही अनोखा रिकॉर्ड अपने नाम करेंगे जय बिष्टा



हल्द्वानी: घरेलू सीूजन की शुरुआत हो गई है। कोरोना वायरस को पीछे छोड़ते हुए बीसीसीआई की कोशिश है कि इस बार सभी वर्गों के टूर्नामेंट का आयोजन कराया जाए। महिला अंडर-19 और पुरुष अंडर-19 वनडे टूर्नामेंट की शुरुआत हो गई है। उत्तराखंड में क्रिकेट को लेकर दीवानगी किसी से छिपी नहीं और इसलिए फैंस व खिलाड़ियों को भी मुकाबलों के शुरू होने का इंतजार है। उत्तराखंड क्रिकेट टीम 2018 से घरेलू टूर्नामेंट में हिस्सा ले रही है और उसका प्रदर्शन मिला झुला रहा है। वैसे कई मजबूत टीमों को कड़ी टक्कर देकर उसने ये जरूर बताया कि राज्य में टैलेंट की कमी नहीं है और आने वाला कल इस टीम का हो सकता है।

Ad

उत्तराखंड क्रिकेट टीम नई है और टीम में अनुभव भरने के लिए प्रो खिलाड़ियों को मौका दिया जाता है। पिछले 4 सीजन की बात करें तो 11 खिलाड़ियों को टीम ने अपने साथ जोड़ा लेकिन केवल एक को रिटेन किया है। मुंबई से खेलने वाले सलामी बल्लेबाज जय बिष्टा 2020 सीजन में उत्तराखंड आए और शानदार प्रदर्शन किया। उनकी बल्लेबाजी ने सभी को प्रभावित किया और सीएयू ने उन्हें साल 2021-2022 सीजन के लिए रिटेन करने का फैसला किया है। लगातार दूसरा सीजन खेलने वाले वह पहले बल्लेबाज होंगे।

यह भी पढ़ें 👉  पार्टी बदली, चेहरे वही...नैनीताल में फिर आमने सामने होंगे संजीव आर्य और सरिता आर्य

फिलहाल सीनियर टीम का कैंप चल रहा है और जल्द सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के लिए टीम की घोषणा होगी। मैदान पर उतरते ही जय बिष्टा एक खास रिकॉर्ड अपने नाम करेंगे। जय बिष्टा से रजत भाटिया, विनीत सक्सेना, रंगाराजन, उन्मुक्त चंद, राहिल शाह, तन्मय श्रीवास्तव, इकबाल अब्दुल्ला और समथ फल्लाह उत्तराखंड के लिए प्रो खिलाड़ी के रूप में खेले लेकिन उन्हें रिटेन नहीं किया गया। साल 2021 सीजन के लिए सीएयू ने रॉबिन बिष्ट और स्वापिनल सिंह को गेस्ट प्रो खिलाडी के रूप में जोड़ा है।

यह भी पढ़ें 👉  डीडीहाट नहीं तो क्या रामनगर से ही चुनाव लड़ेंगे पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत...?

जय बिष्टा के प्रदर्शन पर गौर करें तो पिछले सीजन में उन्होंने उत्तराखंड के लिए टी-20 और वनडे में मिलाकर 5 फिफ्टी और एक सेंचुरी जमाई। वहीं रणजी ट्रॉफी सीजन का आयोजन नहीं हुआ तो उन्हें खेलने का मौका नहीं मिला। मुंबई के लिए उन्होंने 26 फर्स्ट क्लास मुकाबलों में 26 मुकाबलों में 4 शतक और 4 अर्धशतक जमाए थे। इस सीजन में उन्हें उत्तराखंड के लिए रणजी ट्रॉफी में अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलेगा, देखना दिलचस्प होगा कि क्या वह पिछले सीजन की तरह अपनी बल्लेबाजी से चयनकर्ताओं व सीएयू को प्रभावित कर पाते हैं या नहीं।

To Top