Dehradun News

देहरादून में लगा लॉकडाउन कहीं तीसरी लहर का अंदेशा तो नहीं…केंद्र ने चिठ्ठी लिखकर जताई चिंता


देहरादून में लगा लॉकडाउन कहीं तीसरी लहर का अंदेशा तो नहीं...केंद्र ने चिठ्ठी लिखकर जताई चिंता

देहरादून: पहली और दूसरी लहर के कोरोना संक्रमण का आगमन हल्के हल्के हुआ था। धीरे धीरे शुरू होकर ही संक्रमण खतरनाक बन गया था। कुछ महीनों की राहत के बाद चिंता भरी खबर देहरादून से आई है। देहरादून के एफआरआई में 11 वरिष्ठ आईएफएस अधिकारियों (11 IFS Officers corona positive in Dehradun) के कोरोना संक्रमित मिलने के बाद यहां लॉकडाउन लगा दिया गया है।

Ad

बीते दिन यानी गुरुवार को ये खबर सामने आई थी कि देहरादून एफआरआई में ट्रेनिंग के लिए आए 11 आईएफएस ऑफिसर कोरोना पॉजिटिव पाए गए। FRI (Forest Research Institute) के अपर निदेशक डॉ एस के अवस्थी ने बताया था कि 48 अधिकारियों का दल लखनऊ के बाद दिल्ली और फिर देहरादून ट्रेनिंग के लिए आया। दिल्ली से प्रस्थान के समय इनके सैंपल लिए गए थे।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में अबतक भाजपा और कांग्रेस ने नहीं खोले अपने पत्ते, आज से नामांकन भी शुरू...

जिनमें पहले आठ संक्रमित पाए गए। फिर देहरादून में पहुंचने पर सैंपलिंग हुई तो तीन आईएफएस और संक्रमित पाए गए। इस हिसाब से कुल 11 आईएएस अधिकारियों में कोरोनावायरस संक्रमण (corona virus detected) की पुष्टि हुई है। जिसके बाद सभी को एफआरआई के हॉस्टल में आइसोलेट कर दिया गया है। बता दे कि इसके अलावा उनके साथ ही अधिकारियों की भी जांच की जा रही है।

यह भी पढ़ें 👉  जुबिन नौटियाल के पिता को उत्तराखंड में BJP ने दिया टिकट...चकराता से आजतक नहीं हारी है कांग्रेस

कोरोना संक्रमण के इस अटैक से मेडिकल विभाग और प्रशासन के भी हाथ पांव फूल गए। देहरादून डीएम (Dehradun DM lockdown orders) ने आदेश जारी कर जी-2 बी-19 तिब्बतन कॉलोनी डिक्लिन को माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित कर लॉकडाउन लगा दिया गया है। जी हां, यहां रहने वाले लोगों को अपने घरों में ही रहना होगा। हो ना हो, पहली लहर और दूसरी लहर के बाद अब तीसरी लहर का भी डर सताने लगा है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: कांग्रेस के हुए हरक सिंह रावत और अनुकृति गोसाईं

जिस वायरस को लेकर हर कोई रिलैक्स हो गया था। उसने एक बार फिर से हर किसी को टेंशन में डाल दिया है। देश में 9 दिन के अंदर कोरोना संक्रमण से मौत की दर 121 फीसदी बढ़ गई है। बता दें कि इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Health Ministry) ने 13 राज्यों को चिट्ठी लिखकर कम टेस्टिंग पर चिंता जताई है।

To Top